पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • Indian Plate Is An Example Of A Balanced Diet, It Has The Right Mixture Of Protein, Carbohydrates, Vitamins And Minerals: Dr. Yadav

कार्यशाला:भारतीय थाली है संतुलित आहार की मिसाल, इसमें है प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, विटामिन्स, मिनरल्स का सही मिश्रण: डॉ. यादव

जोधपुर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • काजरी में ‘रोग प्रतिरोधक क्षमता में अभिवृद्धि के उपाय’ पर हुई कार्यशाला में बताई भारतीय थाली की महत्ता

देश में थाली वाले भोजन की संकल्पना सबसे अच्छी है। इसमें संतुलित पोषण आहार मिलता है और शरीर में ऊर्जा एवं रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि होती है। ये विचार डाॅ. ओपी यादव ने व्यक्त किए। वे काजरी में आयोजित ‘रोग प्रतिरोधक क्षमता में अभिवृद्धि के उपाय’ विषय पर हिंदी कार्यशाला में मुख्य अतिथि के तौर पर संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि भारतीय थाली में आम तौर पर दाल, चावल, रोटी, सब्जी, सलाद और दही या छाछ शामिल होती हैं। यह शरीर के लिए जरूरी प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, विटामिन्स, मिनरल्स का सही मिश्रण है। उन्होंने कहा कि रोजाना ताजा बना और सही पका हुआ खाना ही लेना चाहिए। अपने भोजन में बाजरा, जौ, गेहूं व ज्वार का उपयोग करें क्योंकि इससे रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। उन्होंने कहा कि बाजारीकरण एवं विज्ञापन के कारण परंपरागत तरीके से उपलब्ध हो रहे तेल की प्रोसेसिंग में बदलाव आया है। इससे वह इतना पौष्टिक नहीं होता। उन्होंने शाकाहारी भोजन और मौसमी सब्जियों-फलों के उपयोग करने पर भी बल दिया। प्रभारी पीएमई डॉ. पीसी महाराणा ने अतिथियों का स्वागत किया। कार्यशाला में वर्षा पिडवा प्रथम, अनिता शेखावत द्वितीय एवं हेमाराम तृतीय स्थान पर रहे।

थाली में अनाज, फल, तेल और दाल होने से मिलता है सही पोषण

  • थाली में आधा हिस्सा सलाद के रूप में फल और सब्जियां का होना चाहिए।
  • कार्बाोहाइड्रेट के लिए एक चौथाई हिस्सा साबुत अनाज जैसे गेंहू, जौ, बाजरा, ज्वार, चावल का हो। ब्राउन राइस अधिक पोषक होते हैं। मैदे की बजाय मोटे आटे की रोटी खाएं।
  • प्रोटीन के लिए थाली में एक चौथाई हिस्सा दाल और फलियों का हों। बादाम भी ले सकते हैं।
  • भोजन में तेल यानि वसा की भी थोड़ी मात्रा होनी चाहिए। इसके लिए सोयाबीन, सूरजमुखी, मूंगफली या सरसों जैसे शुद्ध प्राकृतिक तेल इस्तेमाल करना चाहिए।
  • शरीर में पानी की मात्रा बनी रहे, इसके लिए कई बार पानी, फ्रूट जूस और संतुलित मात्रा में चाय-कॉफी पीयें।
  • दूध और डेयरी प्रॉडक्ट दिन में एक बार ही लें। ज्यादा मीठा खाने से बचें।
खबरें और भी हैं...