पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

राजस्थान पहुंचा अमेरिकी दल:भारत-अमेरिका की सेना का संयुक्त युद्धाभ्यास आठ से,  काउंटर टेररिज्म पर होगा केन्द्रित

जोधपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
संयुक्त युद्धाभ्यास के लिए राजस्थान के सूरतगढ़ एयरबेस पर पहुंचा अमेरिकी सेना का दल। - Dainik Bhaskar
संयुक्त युद्धाभ्यास के लिए राजस्थान के सूरतगढ़ एयरबेस पर पहुंचा अमेरिकी सेना का दल।
  • दोनों देशों के बीच युद्धाभ्यास का यह सोलहवां संस्करण है

पूर्वी सीमा पर चीन के साथ चल रही तनातनी के बीच शनिवार को अमेरिकी सेना का एक दल राजस्थान के सूरतगढ़ पहुंचा। यह दल भारतीय सेना की एक टुकड़ी के साथ संयुक्त युद्धाभ्यास में हिस्सा लेगा। महाजन फायरिंग रेंज में आठ फरवरी से युद्धाभ्यास शुरू होगा। यह संयुक्त सैन्य युद्धअभ्यास काउंटर टेररिज्म पर केंद्रित होगा। दोनों देशों की सेना को आतंक प्रभावित क्षेत्रों में काम करने का बेहतरीन अनुभव हासिल है। ऐसे में एक-दूसरे के अनुभव से दोनों को काफी कुछ सीखने को मिलेगा।

सैन्य प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल अमिताभ शर्मा ने बताया कि वर्ष 2004 में शुरू हुए भारत-अमेरिका द्विपक्षीय अभ्यासों की श्रृंखला में एक्सरसाइज “युद्धाभ्यास-20” सोलहवां संस्करण है। पिछला संयुक्त अभ्यास अमेरिका के सिऐटल में आयोजित किया गया था। यह द्विपक्षीय युद्धअभ्यास रेगिस्तानी इलाके की पृष्ठभूमि में काउंटर टेररिज्म ऑपरेशन पर ध्यान केंद्रित रहेगा। अभ्यास के दौरान, प्रतिभागी संयुक्त योजना, संचालन, संयुक्त सामरिक अभ्यासों से मिशन में संलग्न होंगे और क्षेत्र कमांडरों और सैनिकों के पेशेवर मामलों में एक-दूसरे के साथ बातचीत कर इस अभ्यास को सफल बनाएंगे। इस अभ्यास में भारतीय सेना और अमेरिकी सेना के बीच द्विपक्षीय सेना को बढ़ावा देने, अंतर संबंधों को बढ़ाने, सर्वोत्तम प्रथाओं और अनुभवों का आदान-प्रदान करने में महत्वपूर्ण योगदान होगा।

यह युद्धाभ्यास, भारत और अमेरिका के बीच चल रहे सबसे बड़े सैन्य प्रशिक्षण और रक्षा सहयोग प्रयासों में से एक है। यह संयुक्त अभ्यास दोनों देशों के बीच बढ़ते सैन्य सहयोग में एक और कदम है, जो भारत-अमेरिका संबंधों में लगातार हो रही वृद्धि को दर्शाता है। संयुक्त द्विपक्षीय अभ्यास इस बात का संकेत है कि भारत और अमेरिका दोनों आतंकवाद के खतरे को समझते हैं और उसी का मुकाबला करने में कंधे से कंधा मिलाकर खड़े हैं।

दोनों देशों को आतंकवाद का अनुभव

अमेरिका की सेना को अफगानिस्तान व इराक सहित कई देशों में आतंकवाद का सामना करने का शानदार अनुभव है। वहीं भारतीय सेना को कश्मीर सहित पूर्वोत्तर में आतंकवाद का सामना करने का अनुभव हासिल है। ऐसे में दोनों देश एक-दूसरे के साथ अपने अनुभव को बांटते हुए आतंकवाद से निपटने की नई रणनीति बना उसका अभ्यास करेंगे। राजस्थान के महाजन फील्ड फायरिंग रेंज में इस द्विपक्षीय अभ्यास में भारतीय सेना का प्रतिनिधित्व सप्त शक्ति कमान की 11 वीं बटालियन जम्मू और काश्मीर राइफल्स करेगी। वहीं अमेरिकी सेना के का प्रतिनिधित्व 2 इन्फैंट्री बटालियनए 3 इन्फैंट्री रेजिमेंट, 1.2 स्ट्राइकर ब्रिगेड कॉम्बैट टीम के सैनिकों द्वारा किया जाएगा ।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज आप बहुत ही शांतिपूर्ण तरीके से अपने काम संपन्न करने में सक्षम रहेंगे। सभी का सहयोग रहेगा। सरकारी कार्यों में सफलता मिलेगी। घर के बड़े बुजुर्गों का मार्गदर्शन आपके लिए सुकून दायक रहेगा। न...

और पढ़ें