REET में फुल आस्तीन कपड़े पहने तो नहीं मिली एंट्री:कैंडिडेट्स की कुर्तियां काटीं; हाफ आस्तीन के कपड़े पहनकर आना था

जोधपुर2 महीने पहले
जोधपुर में न्यू गवर्नमेंट स्कूल स्थित सेंटर के बाहर महिला अभ्यर्थियों के कुर्ते की बाजू को काटती पुलिसकर्मी।

रोक के बावजूद एक बार फिर REET (राजस्थान एलिजिबिलिटी एग्जामिनेशन फॉर टीचर ) की महिला कैंडिडेट्स फुल आस्तीन के कपड़े पहनकर पहुंचीं। परीक्षा केंद्र पर पुलिसकर्मियों को इसके लिए भारी मशक्कत करनी पड़ी। पहले उनकी आस्तीन काटी गई, फिर सेंटर पर एंट्री दी गई। गेट पर पहले से ही कैंची लेकर महिला पुलिसकर्मी मुस्तैद थीं। नियमों का हवाला देते हुए कपड़े काटे गए। राजस्थान में जयपुर, जोधपुर, सीकर में आस्तीन काटने के अलग-अलग मामले सामने आए।

माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की ओर से शनिवार को आयोजित REET के लिए इस तरह गाइडलाइन जारी की गई थी। फुल आस्तीन की शर्ट, कुर्ता-कुर्ती, टी-शर्ट पहनकर आने पर पाबंदी थी। फिर भी बड़ी संख्या में सेंटर पर कैंडिडेट फुल आस्तीन के कपड़े पहनकर पहुंचे।
माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की ओर से शनिवार को आयोजित REET के लिए इस तरह गाइडलाइन जारी की गई थी। फुल आस्तीन की शर्ट, कुर्ता-कुर्ती, टी-शर्ट पहनकर आने पर पाबंदी थी। फिर भी बड़ी संख्या में सेंटर पर कैंडिडेट फुल आस्तीन के कपड़े पहनकर पहुंचे।

माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की ओर से शनिवार को आयोजित REET के लिए जोधपुर यूनिवर्सिटी के ओल्ड कैंपस स्थित न्यू गवर्नमेंट स्कूल को परीक्षा केंद्र बनाया गया था। सुबह करीब 10 बजे पहली पाली की परीक्षा थी। इसमें बड़ी संख्या में महिला कैंडेडेट फुल आस्तीन के कपड़े पहनकर पहुंचीं। इन्हें गेट पर ही रोक लिया गया। एक महिला पुलिसकर्मी ने कैंची से सबकी आस्तीन काटी, फिर आगे जाने की इजाजत मिली। इस दौरान किसी ने विरोध नहीं किया, पर चुटकी लेते हुए इतना जरूर कहा- इतना करने से परीक्षा क्या नकलविहीन हो जाएगी।

पुलिसकर्मी बोले- यदि परीक्षार्थी पहले से थोड़ा ध्यान देते तो उनके कपड़ों काे काटने की नौबत नहीं आती।
पुलिसकर्मी बोले- यदि परीक्षार्थी पहले से थोड़ा ध्यान देते तो उनके कपड़ों काे काटने की नौबत नहीं आती।

नियमों को नहीं पढ़ते कैंडिडेट
परीक्षा केंद्र पर तैनात शिक्षक व पुलिसकर्मी महिला का कहना था कि हम तो नियमों से बंधे हैं। प्रवेश पत्र के साथ नियम भी स्पष्ट लिखे हैं। इनमें परीक्षार्थियों से बार-बार आग्रह भी किया गया था कि वे परीक्षा के ड्रेस कोड सहित इससे जुड़े अन्य नियमों को अच्छी तरह से पढ़ें। ताकि बाद में किसी तरह की परेशानी न आए। इसके बावजूद कई परीक्षार्थी इन नियमों को पढ़े बगैर परीक्षा देने पहुंच गए। मजबूरी में उनके कपड़ों के बाजू काटने पड़े। यदि परीक्षार्थी पहले से थोड़ा ध्यान देते तो उनके कपड़ों को काटने की नौबत नहीं आती।

REET सेंटर में एंट्री नहीं मिली, फूट-फूटकर रोए कैंडिडेट्स:किसी ने पैर पकड़े; कोई मिन्नतें करती रही, बोली- बच्चे को दूध पिलाने में लेट हुई

ड्रेस कोड को लेकर स्पष्ट कहा गया था कि फुल आस्तीन के कपड़े पहनकर नहीं आना है। फिर भी बड़ी संख्या में लड़कियां फुल आस्तीन के कपड़े पहनकर सेंटर पहुंची थीं।
ड्रेस कोड को लेकर स्पष्ट कहा गया था कि फुल आस्तीन के कपड़े पहनकर नहीं आना है। फिर भी बड़ी संख्या में लड़कियां फुल आस्तीन के कपड़े पहनकर सेंटर पहुंची थीं।

सही या गलत... सोशल मीडिया पर कमेंट
सोशल मीडिया पर वीडियो जारी होने के बाद बहस छिड़ गई है। कोई इस नियम के साथ तो खिलाफ खड़ा नजर आ रहा है। कुछ यूजर इसे सही बताते हुए कह रहे हैं कि जब सब कुछ पहले स्पष्ट कर दिया गया था तो पूरी बाजू के कुर्ते पहन कर आना गलत है। कुछ लोगों ने कहा कि ऐसा नियम प्रत्येक परीक्षा में लागू होता है। इसके बावजूद लापरवाही बरती तो खामियाजा उठाना पड़ेगा। कुछ लोगों का यह भी कहना है कि यह कोई बहुत बड़ी गलती नहीं है। बाजू लंबा रहने से परीक्षा पर कोई विशेष प्रभाव नहीं पड़ता। ऐसे में इन महिला अभ्यर्थियों को छूट प्रदान की जा सकती थी।

REET-2022... एंट्री नहीं मिलने पर फूट-फटकर रोए कैंडिडेट्स:जोधपुर में सरकारी टीचर सहित 3 फर्जी अभ्यर्थी पकड़े; 3 लाख लेकर डमी बना

पुलिसकर्मी ने ड्रेस कोड का हवाला देकर नियमों का पालन करवाया।
पुलिसकर्मी ने ड्रेस कोड का हवाला देकर नियमों का पालन करवाया।

दुपट्‌टे बाहर रखवाए
जयपुर के अलंकार कॉलेज झोटवाड़ा, टैगोर पब्लिक स्कूल वैशाली नगर, गांधी नगर सरकारी स्कूल, महारानी और महाराजा कॉलेज में महिला अभ्यर्थियों को दुपट्टे पहनकर भी एंट्री नहीं दी गई। मनाही के बावजूद बड़ी संख्या में महिला अभ्यर्थी परीक्षा केंद्र में दुपट्टे के साथ पहुंचीं। जांच में उनके दुपट्‌टे बाहर ही रखवा लिए गए।

जयपुर के झोटवाड़ा स्थित अलंकार कॉलेज में भी बड़ी संख्या में दुपट्‌टा लेकर महिला अभ्यर्थी पहुंचीं। उनके दुपट्‌टे गेट पर ही रखवा लिए गए।
जयपुर के झोटवाड़ा स्थित अलंकार कॉलेज में भी बड़ी संख्या में दुपट्‌टा लेकर महिला अभ्यर्थी पहुंचीं। उनके दुपट्‌टे गेट पर ही रखवा लिए गए।

कलेक्टर बोले- गाइडलाइन का पालन किया
जोधपुर कलेक्टर हिमांशु गुप्ता ने कहा कि माध्यमिक शिक्षा बोर्ड से जो भी गाइडलाइन आई, हमने उसका पालन कराने की पूरी कोशिश की।