• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • Interim Stay Of High Court On Transfer Order Of Widow And Abandoned Professor, Summoned Reply By Issuing Notice To Secondary Education Department

माध्यमिक शिक्षा विभाग को नोटिस:विधवा एंव परित्यक्ता प्राध्यापक के स्थानान्तरण आदेश पर हाईकोर्ट की अंतरिम रोक, माध्यमिक शिक्षा  विभाग को जवाब तलब किया

जोधपुर17 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक फोटो। - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक फोटो।

राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस अरूण भंसाली की सिंगल बेंच ने बीकानेर निवासी मंजु स्वामी एवं शशि अरोड़ा की रिट याचिकाओं को अंतरिम रूप से स्वीकार करते हुए उनके स्थानान्तरण आदेश पर रोक लगा दी। बीकानेर निवासी तलाकशुदा मंजु स्वामी राजकीय सीनियर सेकेंडरी कोलासर, बीकानेर में प्रध्यापक(स्कूल शिक्षा) के रूप में कार्यरत है, विधवा महिला शशि अरोड़ा राजकीय सीनियर सैकण्डरी विद्यालय सादुल, बीकानेर में प्रध्यापक(स्कूल शिक्षा) के रूप में कार्यरत है।

इन दोनों प्रध्यापकों का स्थानान्तरण निदेशक माध्यमिक शिक्षा द्वारा 29.सितम्बर को राजकीय सीनीयर सैकण्डरी विधालय मण्डल, चारनान, बीकानेर एवं राजकीय सीनियर सैकण्डरी विधालय बरसिहंसर, बीकानेर कर दिया गया। विभाग द्वारा प्रार्थीनियों के स्थानान्तरण आदेश 29.09.2021 में विधवा/परित्यक्ता एवं गम्भीर बीमारी जैसे, कैंसर, ह्यदय रोग आदि से ग्रसित कर्मचारियों के स्थानान्तरण हो जाने पर उन्हें कार्यमुक्त नहीं करने की शर्त अंकित नहीं की गई। जबकि माध्यमिक शिक्षा विभाग द्वारा ही पारित अन्य कर्मचारियों के स्थानान्तरण आदेश में विधवा/परित्यक्ता एंव गम्भीर बीमारी से ग्रसित कर्मचारियों के स्थानान्तरण होने पर उन्हें कार्यमुक्त नहीं करने की शर्त अंकित की गई थी।

विभाग के इस कृत्य से व्यथित होकर शशि अरोड़ा एंव मंजु स्वामी ने अधिवक्ता प्रमेन्द्र बोहरा के माध्यम से राजस्थान हाईकोर्ट में दो पृथक रिट याचिकाओं में अपने स्थानान्तरण आदेश को चुनौती देते हुए प्रस्तुत की। इस पर राजस्थान हाईकोर्ट सिंगल बेंच के जस्टिस अरूण भंसाली ने स्थानान्तरण आदेश पर अन्तरिम रोक लगाई एंव माध्यमिक शिक्षा विभाग को नोटिस जारी करते हुए जवाब तलब किया।

खबरें और भी हैं...