कोरोना vs जोधपुर / सैंपलिंग में जयपुर से आगे निकला जाेधपुर राहत यह भी- पाॅजिटिव मरीज 1% और मृत्युदर 2.92% कम

Jadhpur relief ahead of Jaipur in Kareena's sampling - positive patient 1% and death rate reduced by 2.92%
X
Jadhpur relief ahead of Jaipur in Kareena's sampling - positive patient 1% and death rate reduced by 2.92%

  • शहर में 50 हजार से अधिक ताे गांवाें में करीब नाै हजार सैंपल लिए जा चुके
  • जोधपुर में कोरोना की मृत्युदर 1.51% ही, जबकि जयपुर में 4.43% तक पहुंची

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 06:33 AM IST

जोधपुर. जाेधपुर ने कोरोना के सबसे कम एक्टिव केस के बाद अब सबसे ज्यादा सैंपलिंग में भी जयपुर काे पीछे छाेड़ दिया है। प्रदेश में सबसे ज्यादा 59 हजार 227 कोरोना संदिग्धों के सैंपल जोधपुर में लिए गए हैं। जयपुर 55976 सैंपल के साथ दूसरे नंबर पर है।

प्रदेश में अब तक सात जिलाें में 10 हजार से ऊपर सैंपल लिए गए हैं। इनमें काेटा 19398 सैंपल के साथ तीसरे, भीलवाड़ा चौथे, उदयपुर पांचवें, अजमेर छठे और नागाैर सातवें स्थान पर है। जयपुर और जाेधपुर में सबसे ज्यादा पाॅजिटिव सामने आए हैं, दाेनाें जिलाें में पाॅजिटिव का आंकड़ा 1 हजार के पार चला गया है।

प्रदेश में सबसे ज्यादा जांच के बावजूद जाेधपुर में जयपुर से एक प्रतिशत कम पॉजिटिव मरीज मिले हैं। जाेधपुर में जहां 1189 मरीज मिले हैं, वहीं जयपुर में 1737 मरीज मिले हैं। प्रदेश में सबसे कम सैंपल प्रतापगढ़ में 981 ही लिए गए हैं।

वहीं जाेधपुर में काेराेना की मृत्युदर भी जयपुर से बेहद कम हैं। जयपुर में अब तक जहां 1737 राेगियाें में से 4.43% यानी 77 की जान जा चुकी हैं। वहीं जाेधपुर में 1189 राेगियाें में से 1.51% यानी 18 लाेगाें की ही जान गई है।

जोधपुर में दो मशीनों से शुरू हुई थी सैंपल की जांच
जोधपुर में 9 मार्च से कोरोना की जांच का काम शुरू हुआ था। तब डॉ. एसएन मेडिकल कॉलेज की आरटीपीसीआर की केवल दो मशीनें ही काम में ली जा रही थीं। बाद में तीन हुईं। एम्स में भी जांच शुरू हुई तो मशीनों की संख्या चार हाे गई।

बाद में डीएमआरसी ने सहयोग किया तो छह मशीनें जांच करने लगीं। इसके बावजूद सैंपलों का भार बढ़ा ताे ऑटोमैटेड आरएनए एक्सट्रेक्शन सिस्टम (बायाेमेक 4400) मेडिकल कॉलेज को मिला, जिससे जांच में तेजी आई। माह के अंत तक कोबास 8800 मशीन अाने से एक दिन में 3 हजार सैंपल की जांच क्षमता बढ़ जाएगी।
थमेगा नहीं, और बढ़ेगा सैंपलिंग का दायरा

  • कलेक्टर प्रकाश राजपुरोहित ने बताया कि ज्यादा सैंपलिंग का हमें फायदा हुआ है। इससे मरीजाें काे भी जल्दी चिह्नित कर पाए, जिससे हमने बिना लक्षण वाले मरीज ढूंढ कर इलाज शुरू कर दिया। इससे हमारी रिकवरी अच्छी हुई।
  • सैंपलिंग का काम रुकेगा नहीं, क्योंकि अब इंटर स्टेट और इंटर डिस्ट्रिक लोगों की आवाजाही बढ़ेगी। ट्रेन, बस और फ्लाइट शुरू होती है तो आने वाले प्रवासी जो हाॅट स्पॉट मुंबई, पुणे, अहमदाबाद और दूसरी जगहों से आएंगे, उनकी सैंपलिंग कराई जाएगी।
  • कलेक्टर प्रकाश राजपुरोहित ने बताया कि ज्यादा सैंपलिंग का हमें फायदा हुआ है। इससे मरीजाें काे भी जल्दी चिह्नित कर पाए, जिससे हमने बिना लक्षण वाले मरीज ढूंढ कर इलाज शुरू कर दिया। इससे हमारी रिकवरी अच्छी हुई।
  • सैंपलिंग का काम रुकेगा नहीं, क्योंकि अब इंटर स्टेट और इंटर डिस्ट्रिक लोगों की आवाजाही बढ़ेगी। ट्रेन, बस और फ्लाइट शुरू होती है तो आने वाले प्रवासी जो हाॅट स्पॉट मुंबई, पुणे, अहमदाबाद और दूसरी जगहों से आएंगे, उनकी सैंपलिंग कराई जाएगी।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना