पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

तीन लोग देंगे एक-एक करोड़:अयोध्या में राम मंदिर निर्माण में सहयोग के लिए दिल खोलकर आगे आए जोधपुर के दानदाता

जोधपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जोधपुर में गुरुवार को राम जन्मभूमि न्यास के कोषाध्यक्ष गोविंद देव गिरि महाराज। - Dainik Bhaskar
जोधपुर में गुरुवार को राम जन्मभूमि न्यास के कोषाध्यक्ष गोविंद देव गिरि महाराज।
  • राम जन्मभूमि न्यास के कोषाध्यक्ष गोविंद देव गिरि महाराज की जोधपुर यात्रा

अयोध्या में प्रस्तावित श्रीराम मंदिर को निर्माण के लिए जोधपुर के दानदाता दिल खोलकर सहयोग देने को आगे आए है। शहर के तीन लोगों ने अपनी तरफ से एक करोड़ की सहयोग राशि देने की घोषणा की है। वहीं एक ट्रस्ट ने भी एक करोड़ रुपए देने का वादा किया। इसके अलावा तीन जनों ने स्वयं या अपने स्तर पर लोगों से एकत्र कर एक-एक करोड़ की राशि देने की घोषणा की। यह जानकारी राम जन्मभूमि न्यास के कोषाध्यक्ष गोविंद देव गिरि महाराज ने गुरुवार को जोधपुर में दी।

जोधपुर की यात्रा पर आए गोविंद देव गिरि महाराज ने बताया कि अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए पूरे देश के लोगों में उत्साह है। यह मंदिर हमारी राष्ट्रीय चेतना का प्रतीक है। पांच सदी पश्चात उच्चतम न्यायालय ने मंदिर को पुन: वहीं पर स्थापित करने का अवसर प्रदान किया है। हम सभी का प्रयास है कि अयोध्या विश्व की सांस्कृति राजधानी बन कर उभरे। भगवान श्रीराम का जीवन आदर्श है। मंदिर का निर्माण उनकी छवि के अनुरूप ही हो। मंदिर निर्माण के लिए गठित राम जन्मभूमि न्यास ने तय किया है कि किसी एक या चंद परिवारों की ओर से इसका निर्माण न हो। बल्कि इसके निर्माण में प्रत्येक नागरिक का सहयोग हो। इससे लोगों में राम मंदिर के साथ भावनात्मक रूप से जुड़े का अवसर मिलेगा।

उन्होंने बताया कि हमारा प्रयास है कि देश के प्रत्येक गांव तक हम जाएं और प्रत्येक व्यक्ति, प्रत्येक घर से राम मंदिर निर्माण के लिए सहयोग राशि प्राप्त करें। उन्होंने बताया कि 13 जनवरी से 27 फरवरी तक पूरे देश में अभियान चलेगा। इस दौरान प्रांत संघचालक ललित शर्मा, राधा कृष्ण महाराज, हेमंत घोष, महापौर घनश्याम ओझा, पंकज कुमार वीएचपी ईश्वर लाल आदि उपस्थित थे।

जोधपुर के दानदाता आए आगे

जोधपुर पहुंचे कोषाध्यक्ष के समक्ष जोधपुर के कुछ दानदाताओं ने एक-एक करोड़ रुपए राम मंदिर निर्माण में सहयोग राशि के रूप में देने की घोषणा की। उन्होंने बताया कि बद्रीदास- मनीष मूंदड़ा, निर्मल गहलोत व भंवरलाल सोनी के अलावा नाकौड़ ट्रस्ट ने एक-एक करोड़ रुपए देने की घोषणा की है। वहीं शैलाराम सारण, अतुल भंसाली व नरेश सुराणा ने अपने स्तर पर एक-एक करोड़ रुपए एकत्र कर सहयोग देने की घोषणा की।

दानदाताओं का संक्षिप्त परिचय

मनीष बद्रीदास मूंदड़ा: मनीष संघ के स्वयंसेवक है। मूलतः जोधपुर के है व CA है। वर्तमान में नाइजीरिया में लोहिया ग्रुप की इंडोराम पेट्रोकेमिकल कम्पनी में CMD है। बड़े समाजसेवी भामाशाह है। कोरोना काल मे पूरे देश में इन्होंने 20 करोड़ का सहयोग दिया था। प्रतिवर्ष समाजसेवा में 5 करोड़ रुपए लगाते है। अभी हाल ही में एमडीएम हॉस्पिटल में चाइल्ड सीसीयू के लिए 1.60 करोड़ रुपए भेंट किए।

निर्मल गहलोत: संघ विचारधारा से जुड़े निर्मल गहलोत जोधपुर में उत्कर्ष क्लासेस नाम से प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए कोचिंग संस्थान चलाते है। सामाजिक सरोकारों में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेने वाले गहलोत शहर में काफी जाना-पहचाना नाम है।

भंवरलाल सोनी: सोनी का शहर में श्रीराम ग्रुप के नाम से ही होटल व्यवसाय है। स्वयं को भगवान श्रीराम के अनन्य भक्त मानने वाले सोनी ने अपना पूरा कारोबार उन्हीं के नाम से चला रखा है। शहर में उनके तीन होटल है।

नाकौड़ा ट्रस्ट: बाड़मेर जिले में बालोतरा के समीप भव्य नाकौड़ा जैन तीर्थ का संचालन यह ट्रस्ट करता है। इस ट्रस्ट ने आगे बढ़कर भगवान श्रीराम के मंदिर निर्माण में एक करोड़ की सहयोग राशि देने की पहल की है।

अतुल भंसाली: जोधपुर शहर विधानसभा क्षेत्र से गत चुनाव लड़ चुके अतुल शुरू से ही संघ विचारधारा से प्रभावित रहे है और उनके परिवार ने मंदिर निर्माण के लिए पूर्व में चलाए गए आंदोलन में भी हिस्सा लिया था।

शैलाराम सारण: लूणी पंचायत समिति के प्रधान रह चुके शैलाराम भाजपा से जुड़े है। उनका परिवार देश के विभिन्न हिस्सों में बड़े निर्माण कार्यों के ठेके लेता है।

नरेश सुराणा: राम भक्त नरेश सुराणा का शहर में प्रोपर्टी का व्यवसाय है। उन्होंने आश्वासन दिया है कि वे अपने स्तर पर मंदिर निर्माण के लिए एक करोड़ रुपए एकत्र कर जमा कराएंगे।