पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हाईकोर्ट ने लगाई रोक, अगली सुनवाई 22 को:8 झीलों के 30 मीटर दायरे के कब्जों के कैंप में पट्‌टे नहीं बनेंगे

जोधपुर10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

शहर में बाईजी का तालाब, गंगलाव तालाब सहित आठ झीलों व उसके कैचमेंट एरिया से 30 मीटर के दायरे में अवैध निर्माण व अतिक्रमणों के प्रशासन शहरों के संग अभियान के तहत पट्‌टे नहीं बनेंगे। अगर कोई अतिक्रमण है तो उसे भी हटाना पड़ेगा। राजस्थान हाईकोर्ट के न्यायाधीश संगीत लोढ़ा व विनीत कुमार माथुर की खंडपीठ ने एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए यह निर्देश दिए।

इस मामले में अब अगली सुनवाई 22 सितंबर को मुकर्रर की है। इस याचिका में न्यायमित्र बनाए गए अधिवक्ता भावित शर्मा ने कोर्ट के ध्यान में लाया कि अगर शहर की झीलों व उसके कैचमेंट एरिया में बने अवैध निर्माण के संबंध में अंतरिम आदेश नहीं दिए तो जेडीए या नगर निगम प्रशासन द्वारा शहरों के संग अभियान में इन क्षेत्रों में किए गए अवैध निर्माण व अतिक्रमण को नियमित कर दिया जाएगा।

इससे पहले जेडीए की ओर से 6 सितंबर को पेश की गई पालना रिपोर्ट में त्रुटि होने की वजह से उसे विड्रो करने की अर्जी पेश की गई, जिसे कोर्ट ने स्वीकार कर लिया। कोर्ट ने निर्देश दिए कि शहर की उम्मेदसागर, गंगलाव तालाब, बाईजी का तालाब, फतेहसागर, गुलाब सागर, बालसमंद, गोवर्धन तालाब कायलाना और तखतसागर झील के 30 मीटर के दायरे में किसी भी अवैध निर्माण व अतिक्रमण काे अग्रिम आदेश तक नियमित नहीं किया जाए। साथ ही अगर कोई अतिक्रमण या अवैध निर्माण है तो यथोचित कार्रवाई कर हटाया जाए।

खबरें और भी हैं...