पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सहमति:एमबीएम विश्वविद्यालय ही होगा हमारी नई यूनिवर्सिटी का नाम

जोधपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • एक्ट के साथ भेजे गए थे 3 नाम के प्रस्ताव, इसी पर बनी सहमति

मनोज कुमार पुरोहित, जयनारायण व्यास विश्वविद्यालय से अलग होने के बाद एमबीएम इंजीनियरिंग कॉलेज का नया नाम एमबीएम विश्वविद्यालय ही होगा। यह मल्टी फैकल्टी होगा, इसीलिए इसका नाम यही रखा जाना प्रस्तावित है। हालांकि एक्ट के साथ भेजे गए नामों में तीन अन्य नाम भी थे, जिन्हें यदि रखा जाता तो इसेे मल्टी फैकल्टी विश्वविद्यालय बनाने में दिक्कत होती।

सीएम अशोक गहलोत की एमबीएम इंजीनियरिंग कॉलेज को अपग्रेड करने की घोषणा के बाद विशेषज्ञों ने इसका एक्ट बनाया तथा उस एक्ट को सरकार को भेज दिया गया। एक्ट देश के जाने-माने साइंटिस्ट डॉ. के कस्तूरीरंगन व एआईसीटीई के चेयरमैन प्रो. अनिल सहस्त्रबुद्धे की गाइडेंस में बनाया गया। इस विश्वविद्यालय में अलग-अलग फैकल्टी होंगी।

प्रस्तावित एक्ट में काफी कोर्सेज लिखकर भेजे गए हैं। हालांकि अब तक फैकल्टी व संचालित होने वाले कोर्स पर अंतिम निर्णय नहीं हुआ है। शिक्षामंत्री भंवरसिंह भाटी का कहना है कि यह विश्वविद्यालय इंजीनियरिंग की विशेषज्ञता वाला होगा, लेकिन यहां भी मल्टी फैकल्टी होंगी। कोर्सेज तय होने के बाद ही विश्वविद्यालय के एक्ट का मसौदा विधानसभा में प्रस्तुत किया जाएगा।

लेकिन यहां भी मल्टी फैकल्टी होंगी। कोर्सेज तय होने के बाद ही विश्वविद्यालय के एक्ट का मसौदा विधानसभा में प्रस्तुत किया जाएगा।

प्रस्तावित एक्ट में भेजे गए थे ये नाम

द एमबीएम यूनिवर्सिटी ऑफ इंजीनियरिंग एंड जीयो रिसॉर्सेज द एमबीएम यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी एंड अप्लाइड साइंस द एमबीएम यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी एंड एरिड साइंस

प्रस्तावित एक्ट पर कर रहे हैं मंथन

एमबीएम इंजीनियरिंग कॉलेज को विश्वविद्यालय बनाने के निर्णय के साथ प्रस्तावित एक्ट पर मंथन किया जा रहा है। प्रस्तावित एक्ट में इस विश्वविद्यालय के तीन अन्य नाम भी प्रस्तावित किए गए थे, लेकिन इसका नाम एमबीएम विश्वविद्यालय ही तय किया गया है।
- डॉ. शुचि शर्मा, प्रमुख शासन सचिव उच्च एवं तकनीकी शिक्षा

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आप अपने व्यक्तिगत रिश्तों को मजबूत करने को ज्यादा महत्व देंगे। साथ ही, अपने व्यक्तित्व और व्यवहार में कुछ परिवर्तन लाने के लिए समाजसेवी संस्थाओं से जुड़ना और सेवा कार्य करना बहुत ही उचित निर्ण...

    और पढ़ें