पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जोधपुर के अश्विनी रेलवे-आईटी मंत्रालय:ओडिशा से राज्यसभा सांसद वैष्णव को केंद्र में 2 बड़ी जिम्मेदारी, कानपुर IIT से पढ़े पूर्व IAS रहे वैष्णव मोदी के हैं भरोसेमंद

जोधपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
केन्द्र में मंत्री बनाए गए अश्विनी वैष्णव के माता-पिता व भाई-भाभी। - Dainik Bhaskar
केन्द्र में मंत्री बनाए गए अश्विनी वैष्णव के माता-पिता व भाई-भाभी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बुधवार को हुए कैबिनेट विस्तार में जोधपुर के रहने वाले अश्विन वैष्णव को केंद्रीय मंत्री बनाया गया है। वैष्णव को ओडिशा कोटे से मंत्रिमंडल में शामिल किया गया है। यही नहीं, मोदी के भरोसेमंद वैष्णव को केंद्र में दो बड़े मंत्रालयों की जिम्मेदारी दी गई है। वह रेलवे और आईटी (सूचना प्रौद्योगिकी) मंत्रालय संभालेंगे। मूल रूप से पाली के वैष्णव की शुरूआती पढ़ाई-लिखाई जोधपुर में ही हुई है। इसके बाद वैष्णव ने IIT कानपुर से एमटेक की पढ़ाई की। उसके बाद IAS अफसर बने।

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के पसंदीदा अधिकारियों में शुमार वैष्णव शुरू से ही वर्तमान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की नजरों में रहे। यही कारण है कि दो साल पहले मोदी ने उन्हें उड़ीसा से राज्यसभा में भेजा और अब उन्हें अपनी कैबिनेट में शामिल किया। जोधपुर के सांसद गजेन्द्र सिंह शेखावत पहले से केन्द्र में जल शक्ति मंत्री हैं। वैष्णव के रूप में जोधपुर को दूसरा केन्द्रीय मंत्री मिल गया।

वैष्णव के रातानाडा स्थित घर पर खुशी का माहौल है। उनके माता-पिता व भाई-भाभी बेहद खुश नजर आ रहे हैं। पिता दाऊलाल ने कहा कि यह सब उसकी मेहनत के साथ ही ईश्वर व बुजुर्गों के आशीर्वाद का फल है। उन्होंने कहा कि अश्विनी को जो भी जिम्मेदारी मिलती है उसे वह सौ फीसदी मेहनत के साथ पूरा करने का प्रयास करता है। प्रकृति का नियम है कि बदलाव होता ही है। इसी तरह वह प्रशासनिक सेवा से लेकर राजनीतिक क्षेत्र में आता है तो उसका उद्देश्य यही होता है कि देश की सेवा कर सके। हम लोग मध्यमवर्ग से है। हमारी लालसा पैसा कमाने की कभी नहीं रही। देश के लिए कुछ करने का जज्बा हमेशा से रहा है। अश्विनी के भाई आनंद ने कहा कि मेरे भाई ने हमेशा से अपना सौ फीसदी कमिटमेंट पूरा किया है और इस बार भी भी वे देश के लोगों की अपेक्षाओं पर एकदम खरे उतरेंगे।

अश्विन वैष्णव ने शुरुआती पढ़ाई जोधपुर से ही की है।
अश्विन वैष्णव ने शुरुआती पढ़ाई जोधपुर से ही की है।

IIT कानपुर से पढ़े, IAS बने
पाली जिले के जीवंद कलां के मूल निवासी अश्विन वैष्णव के पिता दाऊलाल काफी पहले जोधपुर शिफ्ट हो गए। यही कारण रहा कि अश्विन वैष्णव ने अपनी स्कूली शिक्षा महेश स्कूल से पूरी की। उसके बाद उन्होंने एमबीएम इंजीनियरिंग कॉलेज जोधपुर से बीटेक फिर IIT कानपुर से एमटेक किया। इसके बाद अश्विनी ने अमेरिका के व्हार्टन यूनिवर्सिटी पेनसिल्वेनिया से MBA की डिग्री ली। 1994 में वे IAS बने। उनकी कार्य कुशलता ने वाजपेयी को प्रभावित किया और वे उन्हें अपने पीएमओ में ले आए। इस दौरान वैष्णव का संपर्क नरेन्द्र मोदी से हुआ। 2004 में वाजपेयी सरकार की हार के बाद वैष्णव ने IAS से इस्तीफ दे दिया। कुछ समय तक पोर्ट ट्रस्ट से जुड़े रहे और बाद में अमेरिका चले गए। अमेरिका में भी उनका मन नहीं लगा और वे भारत लौट आए। इसके बाद वे उड़ीसा सरकार के डिजास्टर मैनेजमेंट सलाहकार बने।

मोदी के गुजरात के मुख्यमंत्री रहने के दौरान भी वैष्णव का उनसे संपर्क बना रहा। मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद भी यह संपर्क कायम रहा। वैष्णव की कार्यशैली से प्रभावित मोदी आखिरकार उनको दो साल पहले राज्यसभा में लेकर आए। अश्विन वैष्णव के दो लड़के हैं और दोनों लंदन में पढ़ाई कर रहे हैं।

राजस्थान से मोदी कैबिनेट में एक और कैबिनेट मंत्री:राज्यसभा सांसद भूपेंद्र यादव ने केंद्रीय कैबिनेट मंत्री की शपथ ली; शाह के करीबी हैं, 2013 में वसुंधरा की सुराज संकल्प यात्रा के संयोजक रहे थे

खबरें और भी हैं...