भास्कर एक्सक्लूसिव:नेटबंदी का तोड़ निकाला... जोधपुर में Psiphon Pro से चल रहा नेट

जोधपुर2 महीने पहलेलेखक: मनोज कुमार पुरोहित
  • कॉपी लिंक
जोधपुर में इंटरनेट बंद होने के बाद भी लोग Psiphon Pro नाम के एप को डाउनलोड कर इंटरनेट चला रहे हैं। - Dainik Bhaskar
जोधपुर में इंटरनेट बंद होने के बाद भी लोग Psiphon Pro नाम के एप को डाउनलोड कर इंटरनेट चला रहे हैं।

जोधपुर हिंसा के चौथे दिन कर्फ्यू में दो घंटे की ढील दी गई। शनिवार को 4 घंटे की ढील दी जाएगी। इंटरनेट पर अब भी पाबंदी है। उधर, सामने आया कि एक एप के जरिए लोगों ने नेटबंदी का तोड़ निकाल लिया। Psiphon Pro नाम के एप को डाउनलोड कर लोग इंटरनेट चला रहे हैं। बड़ी बात ये है कि इस एप से भारत में प्रतिबंधित वेबसाइट्स भी एक्सेस की जा सकती है। ये एप सिर्फ एंड्राॅइड फोन में ही चल रही है आईओएस में नहीं। कलेक्टर हिमांशु गुप्ता के अनुसार, इस संबंध में मैंने पुलिस कमिश्नर को बताया है।

इस एप का सर्वर विदेश में

क्या है ये एप, कैसे काम करता है?
साइबर एक्सपर्ट दीपक गहलोत के अनुसार Psiphon Pro एक एंड्रॉइड एप है, जो गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध है। नेटबंदी के दौरान जहां वाईफाई की सुविधा हो वहां जाकर इसे डाउनलोड किया जा सकता है। इसके बाद इसमें एक स्टार्ट का ऑप्शन आता है। सलेक्ट करने के बाद फोन में इंटरनेट की सुविधा शुरू हो जाती है। यदि इसके बाद फोन में एक बार डेटा ऑफ कर दिया तो ये सुविधा फिर से शुरू नहीं हो पाती।

  • ये डाटा नेटवर्क से खुद का वीपीएन स्थापित करता है। इससे इंटरनेट मिलता है। जब तक नेटवर्क डेटा पूरी तरह से बंद नहीं किया जाता, तब तक इंटरनेट रहता है। इस एप से वे एप भी चल जाती है, जो साधारणतः: सभी नेटवर्क में ब्लॉक रहते हैं।

नेटबंदी में कैसे चल रही है ये एप
साइबर एक्सपर्ट पुनित राव के अनुसार नेटबंदी में दो तरह से नेटवर्क बंद किए जाते हैं। पहला- डाटा नेटवर्क पूर्ण रूप से बंद किए जाते हैं और जीएसएम की सुविधा शुरू रहती है। इससे केवल कॉलिंग हो सकती है। दूसरे सभी एप ब्लॉक रहते हैं। तकनीकी कारणों से Psiphon Pro एप ब्लॉक नहीं की गई, जिससे नेट की सुविधा किसी भी एंड्राॅइड फोन में चालू हो जाता है।

इस एप का सर्वर भारत में नहीं है। इसीलिए जिस देश में इसका सर्वर है। उसी देश की प्रतिबंधित वेबसाइट्स इस एप के माध्यम से इंटरनेट एक्सेस करने पर नहीं चलाई जा सकती। इसे सर्वर से कनेक्ट हाेने के बाद भारत की प्रतिबंधित वेबसाइट्स को एक्सेस करने में कोई परेशानी नहीं होती है।