बाड़मेर:अब अपने घर में ही आइसोलेट रह सकेंगे कोरोना संक्रमित रोगी, जिला कलेक्टर ने जारी किए आदेश

जोधपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • घर पर आइसोलेट रखने से पहले जांची जाएगी सुविधाएं

बाड़मेर जिले में कोरोना संक्रमितों के घर में पर्याप्त सुविधाएं उपलब्ध होने पर घर में ही रखा जाएगा। जिला कलेक्टर विश्राम मीणा ने एक आदेश जारी कर कहा कि किसी भी व्यक्ति के पॉजिटिव आने पर बुनियादी सुविधाओं की जांच कर उसे घर पर ही आइसोलेट रखने का फैसला किया जाएगा। 

मीणा ने बताया कि चिकित्सा टीम द्वारा व्यक्ति का सेम्पल लिए जाने के उपरान्त यदि उसकी कोरोना संक्रमण के संबंध में रिपोर्ट पॉजिटिव आती है तो ग्राम, वार्ड स्तरीय समिति भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय गाइड लाइन के अनुसार रोगी के घर पर समुचित बुनियादी व्यवस्था है या नहीं इसका आंकलन करेंगे। बुनियादी व्यवस्था में ग्राम, वार्ड स्तरीय समिति उसके घर पर रहने के लिए अलग से कमरा, बाथरूप, टॉयलेट है अथवा नहीं के संबंध में टिप्पणी करेगी। यदि रोगी के घर पर बुनियादी व्यवस्था है तो उसके पडोसियों को कोरोना संक्रमण के संबंध में अवगत कराएगी। तत्पश्चात् चिकित्सा विभाग की टीम को सूचित करेगी।            उन्होने बताया कि चिकित्सा टीम को सूचना प्राप्त होते ही ग्राम, वार्ड स्तरीय समिति से समन्वय स्थापित करते हुए भारत सरकार की ओर से जारी गाइड लाइन अनुसार रोगी की जॉच कर यह प्रमाणित किया जाएगा कि रोगी की अवस्थानुसार उसे घर पर रखा जा सकता है। चिकित्सा टीम द्वारा सन्तुष्टी उपरान्त टीम द्वारा उसे गाइड लाइन से अवगत करवाते हुए अन्डरटेंकिंग भरवाएगी। उन्होने बताया कि चिकित्सकीय टीम रोगी को होम आइसोलेशन होने के उपरान्त रोगी के मोबाइल पर आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करते हुए इस संबंध में पाबन्द करेगी। जिला कलक्टर ने बताया कि संबंधित उपखण्ड अधिकारियों को सभी से समन्वय स्थापित करते हुए उपरोक्तानुसार कार्यवाही सम्पादित करने के निर्देश दिए गए है। जिले में उपर्युक्तानुसार समस्त कार्यवाही तत्काल प्रभाव से प्रभावी होगी।

खबरें और भी हैं...