• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • On Hariyali Amavasya, The Scorching Sun Disappointed, Devotees Flocked To The Hills For Parikrama, But The Heat Made Their Condition Miserable, 32 Degree Temperature Made Them Sweat, The Rules Of The Epidemic Broke In The Crowd

हरियाली अमावस्या पर तेज धूप ने किया मायूस:भौगिशैली पहाड़ियों पर परिक्रमा के लिए पहुंचे भक्त, गर्मी ने किया हाल बेहाल, भीड़ में टूटे महामारी के नियम

जोधपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हरियाली अमावस्या पर जोधपुर के - Dainik Bhaskar
हरियाली अमावस्या पर जोधपुर के

इस बार सावन में इंद्र देव ने जोधपुर को मायूस ही रखा। अच्छी बारिश के लिए जोधपुर तरसता रहा। सावन माह की हरियाली अमावस्या पर शिव भक्त यहां भौगिशैली पहाडि़यों पर परिक्रमा करने पहुचे लेकिन गर्मी से बेचेन नजर आए। जोधपुर के रातानाडा गणेश मंदिर से परिक्रमा शुरु हुई। गावों से सुबह-सुबह भक्तों का हुजुम पहुंचा। जो उमस और गर्मी से बेहाल दिखे। रविवार को सुबह से ही सूरज देवता रोद्र रुप में ही नजर आए। तीखी धूप में सुबह दस बजे 32 डिग्री तापमान से गर्मी में लोग परेशान हुए। हरियाली अमावस्या के चलते दूर दराज गांवों से भक्तों का हूजूम मिनी बसों व गाड़ियों में पहुंचा। रातानाडा गणेश मंदिर से शुरु हुई परिक्रमा में महिलाए व बच्चे पहुचे।

रातानाडा मंदिर में पहुंचे श्रृद्धालु।
रातानाडा मंदिर में पहुंचे श्रृद्धालु।

ना रिमझिम ना ही हरियाली

इस बार सावन बिल्कुल सूखा रहा है। सावन माह की शुरुआत के सप्ताह में मौसम सुहावना रहा था लेकिन बरसात नहीं हुई। पिछले एक सप्ताह से गर्मी ने हाल बेहाल कर रखे है। परिक्रमा में मंदिर पहुंची चूकी देवी ने कहा कि इस बार सावन में हरियाली अमावस्या पर इतनी गर्मी है । हर बार मौसम सुहाना रहता है और बरसात भी आती है। कमला देवी अपनी बेटी के साथ दर्शन करने पहुची उसने बताया कि इस गर्मी में पूरे दिन दर्शनीय स्थलों पर घूमना मुश्किल होगा।

हरियाली अमावस्या पर भक्तों का हुजुम।
हरियाली अमावस्या पर भक्तों का हुजुम।

आधा सावन निकला नहीं बरसे बादल

मानसून आने के बाद जहां प्रदेश भर में नदीयां उफान पर है। खेत तालाब बने हुए है वहीं जोधपुर में एक बार भी बरसात नहीं हुई। जलाशयों का स्तर गिर चुका है वहीं किसानों के चेहरे भी मुरझाए हुए है। हर कोई इंद्र को मनाने की कौशिश में लगा है। इसके लिए मंदिरों में रुद्राभिषेक व अन्य अनुष्ठान किए जा रहे है।

यहां रहेगी चहल पहल

हरियाली अमावस्या पर रातानाडा गणेश मंदिर, रिक्तिया भैरुजी, मसूरिया बाबा, चौपासनी श्याम मनोहर, अरना-झरना, भद्रेशिया, कदमखंड, बड़ली भैरु मंदिर, बृहस्पी कुंड, बैजनाथ, मंडलनाथ, कुण्डली माता, जोगीतीर्थ, दईजर माता, बैरी गंगा धाम, नींबा तीर्थ, मंडोर देवताओं की साल, काला गोरा भैरु, संतोषी माता मंदिर, कागा तीर्थ और शीतला माता मंदिर होते हुए वापस रातानाडा गणेश मंदिर आकर परिक्रमा पूरी करते है। श्रद्धालु इन स्तलों पर पहुंचेगे और पूरे दिन चहल पहल रहेगी।

नहीं हुआ नियमों का पालन

मंदिरों में श्रृद्धालुओं का हुजुम पहुंचा। कोविड की पालना कही नजर नहीं आई। इधर तीसरी लहर की आशंका बनी हुई है। कोविड पूरी तरह से गया नही उस पर भी लाेग बिना मास्क के पहुंचे। रातानाडा गणेश मंदिर में बीना मास्क लगे लोग नजर आए। यहां पुजारी लोगों को टोकते रहे लेकिन बच्चे हो या महिलाएं अधिकांश मास्क के बिना ही दिखे।

खबरें और भी हैं...