वैक्सीनेशन से हारेगा कोरोना:45 साल से बड़े 46% लोगों को ही लगा टीका, 21 लाख को लगे तो हारेगा कोरोना

जोधपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिले में 26.58 लाख चिह्नित, 80% को टीका लगना जरूरी

शहर में बढ़ते कोरोना के प्रकोप को शांत करने का वैक्सीनेशन ही उपाय है। वैक्सीनेशन के बाद शरीर में बनने वाली इम्युनिटी और एंटीबॉडी कोरोना को आसानी से हरा पाती है। हालांकि वैक्सीनेशन के बाद भी काेराेना हाे सकता है, लेकिन वह घातक नहीं हाेता है। ऐसे में काेराेना काे हराना है ताे जिले भर में 21 लाख लाभार्थियों को जल्द से जल्द वैक्सीनेट करना जरूरी है।

विशेषज्ञों की मानें तो आबादी के 80 प्रतिशत जनसंख्या काे वैक्सीनेट करने पर ही जिले में कोरोना से राहत मिल सकती है। वर्तमान में 26 लाख 58 हजार 509 लोग वैक्सीनेशन के लिए जिले में चिह्नित हैं और जल्द से जल्द इनका 80 प्रतिशत यानी करीब 21 लाख की आबादी का वैक्सीनेशन होगा, तभी कोरोना को मात दी जा सकेगी।

दरअसल मई माह से शुरू होने वाले कोरोना युवा वैक्सीन अभियान के लिए जिले में 18 से 44 उम्र के करीब 16 लाख लाभार्थी हैं। इसके अलावा 45 से अधिक आयु वर्ग के 10 लाख 58 हजार 509 लाभार्थी विभाग द्वारा चिह्नित हैं। 18 से 44 उम्र के लाभार्थियों के टीकाकरण की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। टीके के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन दो दिन से किया जा रहा है, जो 30 अप्रैल तक होगा। रजिस्ट्रेशन के बाद मई माह में उनको टीका लगाना शुरू किया जाएगा।

45 से अधिक आयु वर्ग के 546061 काे लगा टीका
गत 16 जनवरी से शुरू हुए कोरोना वैक्सीन अभियान के तहत अब तक करीब 546061 लाभार्थियों को जिले में वैक्सीनेट किया जा चुका है। इनमें सबसे पहले हेल्थ वर्कर, फ्रंटलाइन वर्कर और 45 वर्ष से अधिक उम्र के लाभार्थी शामिल हैं। 104 दिन में औसतन प्रतिदिन 5450 लाभार्थियों को टीकाकरण कर इस मुकाम पर पहुंचे हैं।

ऐसे में मई माह में 18 साल से अधिक उम्र वाले करीब 16 लाख और 45 साल से अधिक उम्र के करीब साढ़े दस लाख के आंकड़े को मिलाकर कुल 26 लाख लोगों को वैक्सीन लगाने का लक्ष्य होगा।

सबसे पहले हेल्थ वर्करों को किया वैक्सीनेट
अभियान में सबसे पहले हेल्थ वर्करों को चिह्नित कर वैक्सीनेट किया गया। 104 दिन में 32662 हेल्थ वर्करों को टीके लगाए गए। 28391 फ्रंटलाइन वर्करों को टीके की पहली डोज लगी। मार्च से शुरू हुए 60 साल से अधिक के बुजुर्ग और 45 साल से अधिक काॅमाेबिड व्यक्तियाें काे टीका लगाया गया।

इसके बाद सरकार ने 45 साल से अधिक आयु वर्ग से कॉमोबिड कंडीशन की शर्त हटाई। तब से अब तक करीब 240055 लाभार्थियों को वैक्सीनेट किया जा चुका है। जबकि 60 साल से अधिक आयु वर्ग के 244953 बुजुर्गों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है।

खबरें और भी हैं...