पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सांसों की माला पे समाजसेवियों का नाम:अर्जेंट ऑर्डर दे वड़ोदरा में बनवाया ऑक्सीजन प्लांट; रोजाना 80 सिलेंडर ऑक्सीजन की क्षमता

जोधपुरएक महीने पहलेलेखक: मनीष बोहरा
  • कॉपी लिंक
वड़ोदरा में तैयार जोधपुर का ऑक्सीजन प्लांट। - Dainik Bhaskar
वड़ोदरा में तैयार जोधपुर का ऑक्सीजन प्लांट।
  • बिल्डर उचियारड़ा ने 25 लाख रु. और मुंडेल-बुडिया ने दिए 25 लाख रु., आज पावटा जिला अस्पताल में लगेगा

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में रेमेडसिविर और ऑक्सीजन की सर्वाधिक जरूरत महसूस हुई। ऑक्सीजन की कमी होने पर यह दूसरे प्रदेशों से लिक्विड ऑक्सीजन मंगाई जा रही है। फिर भी यह शहर की जरूरतों को पूरा नहीं कर पा रही है। ऐसे में शहर के भामाशाह आगे आए और अपने स्तर पर जोधपुर को सांसें देने के लिए संजीवनी के प्लांट लगवा रहे हैं। पहला प्लांट लगाने के लिए बिल्डर करणसिंह उचियारड़ा, हीरालाल मुंडेल और देवेंद्र बुडिया आगे आए।

प्लांट लगाने और जोधपुर पहुंचाने में ओमप्रकाश चौधरी का सहयोग रहा। यह प्लांट शनिवार को पावटा स्थित जिला अस्पताल में लगाया जाएगा। इस घोषणा के बाद कई भामाशाह आगे आए और उन्होंने ऑक्सीजन प्लांट लगाने के लिए मदद की है।

गांवों में भी लगवाएंगे प्लांट: इसके बाद जो प्लांट आएंगे, उनमें से कुछ आस-पास के गांवों में सरकारी अस्पताल में लगाए जाएंगे। उचियारड़ा ने कहा कि बहुत कम समय में इस प्लांट को स्थापित किया जा रहा है। और लोग भी आगे आएं और ऐसे प्लांट लगाने में मदद करें। ताकि भविष्य में ऐसी बीमारियों के समय हमें ऑक्सीजन की कमी ना पड़े।

50 लाख में बना प्लांट, दाे अन्य प्लांट भी 1 सप्ताह में आ जाएंगे
निटीटो एक्सिम इंडिया लिमिटेड के सहयोग से यह प्लांट वड़ोदरा से जोधपुर पहुंचेगा। इसकी लागत करीब 50 लाख है। इसकी आधी राशि 25 लाख करणसिंह उचियारड़ा ने तो शेष आधी हीरालाल मुंडेल और देवेंद्र बुडिया ने दी है। इस प्लांट के द्वारा प्रतिदिन 80 ऑक्सीजन सिलेंडर भरे जा सकेंगे। एक दिन का बिजली खर्च करीब 5 हजार आएगा। शेष दो और प्लांट एक सप्ताह के भीतर जोधपुर पहुंच जाने की संभावना है। इससे प्रतिदिन 240 सिलेंडर क्षमता होगी।

जीएसटी माफी के लिए लिखा पत्र: आपदा के समय ऑक्सीजन प्लांट या ऑक्सीजन कंसंट्रेटर मशीन लगाने वाले दानदाताओं को इसे खरीदने के लिए पैसों के साथ 18 प्रतिशत जीएसटी देनी पड़ रही है। दानदाताओं ने सरकार से अपील की है कि वो जीएसटी राशि को हटाएं ताकि इसका फायदा आमजन को मिल सके। मुख्य सचिव निरजंन आर्य को पत्र लिखा है।

खबरें और भी हैं...