भीम आर्मी के अध्यक्ष को वापस भेजा:चंद्रशेखर को जालोर नहीं जाने दिया, 4 घंटे एयरपोर्ट पर रखा

जोधपुर4 महीने पहले
जोधपुर एयरपोर्ट से बाहर निकलते चंद्रशेखर।

जालोर जिले के सुराणा गांव में एक 9 वर्षीय बालक की एक शिक्षक की ओर से की गई कथित पिटाई के बाद मौत होने का मामला शांत होने का नाम नहीं ले रहा है। इस बालक के परिजनों से मिलने के लिए भीम आर्मी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चंद्रशेखर आजाद जोधपुर पहुंचे। पुलिस ने उन्हें एयरपोर्ट पर ही रोक दिया। चार घंटे तक उनके जालोर जाने को लेकर गतिरोध बना रहा। बाद में पुलिस ने उन्हें सड़क मार्ग से वापस रवाना कर दिया। चंद्रशेखर ने कहा कि इस बारे में गहलोत ही बता सकते है कि मुझे क्यो रोका जा रहा है।

भीम आर्मी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चंद्रशेखर दोपहर सवा तीन बजे की फ्लाइट से जोधपुर पहुंचे। एयरपोर्ट से बाहर निकलने से पहले पुलिस ने उसे रोक लिया। चंद्रशेखर ने बाहर निकल जालोर जाने की जिद भी की। बाहर उसके कुछ समर्थक भी पहुंच गए। डीसीपी अमृता दुहन ने बताया कि उन्हें सिर्फ रोका गया है। गिरफ्तार नहीं किया गया है। उन्होंने बताया कि जालोर में निषेधाज्ञा लागू है। ऐसे में उन्हें यहीं पर रोक दिया गया।

चार घंटे की समझाइश वार्ता के बावजूद शाम तक गतिरोध बरकरार रहा। आखिरकार सवा सात बजे पुलिस ने उन्हें एक कार मंगा जोधपुर से रवाना कर दिया। एयरपोर्ट के बाहर चंद्रशेखर ने कहा कि उन्हें रोके जाने का सही कारण पुलिस नहीं बता पाई। इसका सही जवाब तो गहलोत ही बता सकते है। जब सत्ता व विपक्ष के नेता वहां जा सकते है तो उस परिवार के भाई के रूप में मैं क्यों नहीं। उन्होंने कहा कि मैं एक बार पीड़ित परिवार से मिलने अवश्य जाऊंगा। हालांकि पुलिस अब उन्हें जोधपुर से जयपुर की तरफ रवाना किया है।