पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

हैंडीक्राफ्ट्स एक्सपोर्टर्स एसोसिएशन:देशभर के कंटेनर टर्मिनल से जोधपुर को जोड़ने का प्रस्ताव

जोधपुर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • जोधपुर हैंडीक्राफ्ट्स एक्सपोर्टर्स एसोसिएशन ने केंद्रीय जहाज रानी मंत्रालय को भेजा प्रस्ताव, कंटेनर की वापसी कम

कोविड-19 के संक्रमण काल में लगातार जोधपुर के हैंडीक्राफ्ट्स एक्सपोर्टर्स को कंटेनर्स की कमी का सामना करना पड़ रहा है। एक्सपोर्टर्स ने पिछले ऑर्डर पूरा करने के साथ नए ऑर्डर पर भी काम करना शुरू कर दिया है, लेकिन आयात-निर्यात का संतुलन बिगड़ने की वजह से कंटेनर्स यहां से रवाना तो हो रहे हैं, लेकिन इनकी वापसी कम हो रही है।

इससे एक्सपोर्टर्स के सामने कंटेनर उपलब्ध नहीं होने का संकट खड़ा हो गया है। जोधपुर हैंडीक्राफ्ट्स एक्सपोर्टर्स एसोसिएशन की ओर से केंद्रीय जहाज रानी मंत्रालय को देश के सभी कंटेनर डिपो को आपस में जोड़ने का प्रस्ताव भेजा है।

प्रस्ताव पर मंत्रालय ने कार्य योजना तैयार करना शुरू कर दिया है। प्रस्ताव को यदि लागू किया जाता है तो जहां कंटेनर का आयात अधिक है, वहां से निर्यात वाले केंद्रों को कंटेनर भेजे जा सकेंगे। वर्तमान परिस्थितियों में एक्सपोर्टर्स को माल रवाना करने के लिए 10 से 15 दिन तक खाली कंटेनर्स के लिए इंतजार करना पड़ रहा है। वहीं कंटेनर्स के लिए शिपिंग कंपनियां भी ज्यादा राशि मांगने लगी हैं।

कंपनियां एक्सपोर्टर्स को अर्जेंट डिमांड पर ज्यादा रेट पर खाली कंटेनर उपलब्ध करवा रही हैं। एक्सपोर्टर्स एसोसिएशन के अनुसार जोधपुर की हैंडीक्राफ्ट एक्सपोर्ट यूनिट्स में करीब एक हजार कंटेनर्स का माल तैयार है, लेकिन कंटेनर्स की कमी की वजह से रुका हुआ है। ऑर्डर्स कैंसिल होने की कगार पर है और एक्सपोर्ट भी 25 प्रतिशत रह गया है। ऐसे में यदि केंद्रीय जहाज रानी मंत्रालय की ओर से इस प्रस्ताव को जल्दी लागू किया जाता है तो देशभर के निर्यातकों को बड़ी राहत मिलेगी।

प्रस्ताव : सभी कंटेनर को एक-दूसरे से लिंक किया जाए
जोधपुर हैंडीक्राफ्ट एक्सपोर्टर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. भरत दिनेश ने बताया कि प्रस्ताव के अनुसार सभी कंटेनर को एक दूसरे से लिंक किया जाए और उनकी आवश्यकता के अनुसार कंटेनर उपलब्ध कराएं। अधिकांश स्थानों पर आयात अधिक होता है और निर्यात कम, लेकिन जोधपुर जैसे शहरों से निर्यात अधिक होता है।

ऐसे में जहां आयात अधिक है वहां कंटेनर लंबे तक प्रयोग नहीं होते, उन्हें कमी वाले स्थान पर भेजा जाए। मंत्रालय ने इस मामले में कार्य योजना बनाकर जल्द काम करने का आश्वासन दिया है। भारत से निर्यात का सामान लेकर जाने वाले कंटेनर इस समय श्रीलंका, सिंगापुर व बाली के अलावा स्कैंडेनेवियन कंट्री में फंसे हुए हैं।

मांग की जा रही है कि इन कंटेनर को खाली मंगाने पर जो भी खर्चा आए उसका भुगतान कर वापस मंगाया जाना चाहिए। अगर ऐसा नहीं होता है तो ऑर्डर कैंसिल होने के हालात में बड़ा नुकसान तो होगा ही देश की साख पर भी बट्टा लगेगा।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज का दिन परिवार व बच्चों के साथ समय व्यतीत करने का है। साथ ही शॉपिंग और मनोरंजन संबंधी कार्यों में भी समय व्यतीत होगा। आपके व्यक्तित्व संबंधी कुछ सकारात्मक बातें लोगों के सामने आएंगी। जिसके ...

और पढ़ें