पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आपदा में तन-मन-धन से यूं इंसानियत दिखा रहे कई देवदूत:अपनी एसयूवी को मरीज लाने-ले जाने में निशुल्क लगाया, दोस्तों ने एंबुलेंस खरीद फ्री सेवा शुरू की, मरीजों को पानी पहुंचा रहे

जोधपुरएक महीने पहलेलेखक: रविंद्र शर्मा
  • कॉपी लिंक
आपसी सहयोग से दो एबुलेंस खरीद सेवा में लगाई। - Dainik Bhaskar
आपसी सहयोग से दो एबुलेंस खरीद सेवा में लगाई।

कोरोना चरम पर है। हर दिन दो हजार से ज्यादा पॉजिटिव आ रहे हैं। अस्पताल फुल हैं। ऐसे में कुछ लोग देवदूत बनकर आगे आए हैं। उन्होंने वाहनों को निशुल्क एंबुलेंस बना दिया है। इनमें बीमारों को लाने-ले जाने और शवों को घर-श्मशान पहुंचाने में अपना योगदान दे रहे हैंं। आपदा में जब अपने साथ छोड़ रहे हैं और एंबुलेंस के नाम पर लूट मची है, इस सेवा को मिसाल माना जा सकता है।

1. एक महीने पहले अपने लिए खरीदी एसयूवी को अब एंबुलेंस बनाया

करीब एक माह पूर्व कबाड़ व्यवसायी पप्पसा आचार्य ने अपने परिवार के लिए खरीदी एसयूवी को एंबुलेंस बना दिया। वे अब कोरोना संक्रमितों व शवों को निशुल्क लाने और ले जाने का काम कर रहे हैं। जब एंबुलेंस के नाम पर शहर में लूट की खबरें पढ़ीं तो उनका दिल पसीजा और बोले- गाड़ियां तो फिर खरीद लेंगे, इंसान की जिंदगी बचाना जरूरी है।

इसी भावना से वे सेवा कर रहे हैं। शुक्रवार को नोखा में एक मुस्लिम व्यक्तिका शव पहुंचाया। शनिवार को जैतारण में शव पहुंचाया। एमडीएमएच प्रशासन ने उनकी इस सेवा को देख उनके नंबर सहायता केंद्र पर लगा दिए हैं।

2. दोस्त बने देवदूत, आपसी सहयोग से दो एबुलेंस खरीद सेवा में लगाई

भीतरी शहर और चौहाबो में बीमार व शवों को ले जाने के लिए एंबुलेंस नहीं मिलने पर दस-बारह दोस्तों ने मिलकर दो एंबुलेंस खरीदी। इन्हें निशुल्क आमजन की सेवा में लगा दी। अजय व्यास, विपिन पुरोहित, गोविंद पुरोहित, ललित पुरोहित, शिवदत्त व्यास, गिरीश व्यास, मनोज जोशी, विनोद व्यास का कहना है कि एंबुलेंस आसानी से नहीं मिल रही है।

इन गाड़ियों में 24 घंटे ये दोस्त सेवाएं दे रहे हैं। हेल्पिंग हैंड सोसायटी व गुंदेश्वर महादेव सेवा समिति से जुड़े इन दोस्तों ने एक गाड़ी गुंदी मोहल्ला और दूसरी गाड़ी शास्त्रीनगर व चौपासनी हाउसिंग बोर्ड में लगाई है। इसमें चौबीस घंटे सेवाएं दे रहे हैं।

3. अस्पतालों में मरीजों को पहुंचा रहे पेयजल

कोविड-19 से ग्रसित बीमार मरीजों को घर से अस्पताल और अस्पताल से घर ले जाने तथा शवों को श्मशान तक ले जाने के लिए शिक्षक नेता शंभूसिंह मेड़तिया ने अपनी एसयूवी गाड़ी लगाई है। मेड़तिया कोविड मरीजों को बोतल बंद पानी एमडीएमएच में निशुल्क पहुंचा रहे हैं। अस्पताल में नियमित रूप से सेवाएं देने के साथ मरीजों को लाने ले जाने के लिए भी अपनी गाड़ी लगा दी।