पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रैगिंग:मेडिकल कॉलेज गर्ल्स हॉस्टल में रैगिंग, रूम आवंटन का केस बता छुपाने में लगा प्रशासन

जोधपुर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • दो दिन पहले सीनियर छात्रों ने ली थी जूनियर की रैगिंग, कॉलेज प्रशासन ने समझौता करा छुपाया था मामला

डॉ. एसएन मेडिकल कॉलेज में करीब नौ महीने बाद शुरू हुई पढ़ाई के साथ ही रैगिंग भी शुरू हो गई है। हॉस्टल्स में रैगिंग के दो मामले सामने आए। गंभीर बात यह है कि तीन दिन में हुए इन दोनों मामलों को मेडिकल कॉलेज प्रशासन छुपाने में ही लगा रहा। पहले शनिवार को सीनियर छात्रों ने हॉस्टल में आए जूनियर की रैगिंग ली, तब कॉलेज प्रशासन ने उनमें समझौता करवा मामला छुपा लिया। फिर सोमवार को 2017 और 2018 बैच की दो सीनियर छात्राओं ने 2019 की जूनियर छात्रा की रैगिंग ली। इसे भी रूम अलॉटमेंट का इश्यू बता कॉलेज प्रशासन रैगिंग होने से ही इनकार कर रहा है।

सोमवार रात को रैगिंग की शिकायत मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. गुलझारी लाल मीणा के पास पहुंची तो उन्होंने तुरंत हाॅस्टल वार्डन को मामले को शांत करने भेज दिया। हॉस्टल सूत्रों की मानें तो सीनियर गर्ल्स ने जूनियर की रैगिंग ली। हॉस्टल में तैनात कर्मचारियों ने बताया कि पहली बार रात करीब 10 बजे डॉ. नीलम मीणा हाॅस्टल में आईं और वे करीब एक घंटे वहां रुकीं और गर्ल्स को समझाने के बाद ही गईं।

इधर, मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. मीणा से इस संबंध में बात की तो उन्होंने कहा कि कक्षाएं फिर से शुरू हुई हैं, ऐसे में रैगिंग का डर था और इसीलिए वे खुद रात 11 बजे तक हॉस्टल के बाहर मॉनिटरिंग पर थे। रूम अलॉटमेंट को लेकर गर्ल्स स्टूडेंट्स का इश्यू था। इसके लिए डॉ. नीलम को भी अंदर भेजा था।

बॉयज हॉस्टल में हुई रैगिंग को प्रशासन ने आपसी झगड़ा बताया

बाॅयज हाॅस्टल में 9 जनवरी को 2019 बैच के दाे स्टूडेंट्स की सीनियर ने रैगिंग ली थी। इसकी लिखित शिकायत पीड़ित स्टूडेंट्स और उनके परिजनों ने दी, लेकिन कॉलेज प्रशासन ने दोनों पक्षों में रजामंदी कराकर मामले को शांत कर दिया। वहीं इसे लेकर प्राचार्य डॉ. मीणा से बात की तो उन्हाेंने रैगिंग होने से ही इनकार करते हुए कहा कि स्टूडेंट्स में आपस में झगड़ा हुआ था। इसके चलते उन्हें समझा दिया गया था। उन्होंने बताया कि एक फरवरी से नया सत्र शुरू होगा। ऐसे में रैगिंग की घटनाएं नहीं हों, इसके लिए एंटी रैगिंग कमेटी की बैठक 16 जनवरी को बुलाने के निर्देश दिए हैं।

स्टूडेंट्स का आरोप : शिकायत पर भी प्रिंसिपल कोई कार्रवाई नहीं करते
मेडिकल कॉलेज के स्टूडेंट्स से जब रैगिंग की घटना को लेकर पूछा तो उन्होंने कहा कि शिकायत करने पर भी कॉलेज प्रशासन की ओर से कोई कार्रवाई नहीं की जाती है। उन्होंने बताया कि 2018 बैच के कई स्टूडेंट्स बिना अलॉटमेंट के हॉस्टल में रह रहे हैं और वे शराब पीकर जूनियर स्टूडेंट्स काे परेशान करते रहते हैं। इसकी लिखित नामजद शिकायत भी की गई, लेकिन प्रिंसिपल ऑफिस से कोई कार्रवाई नहीं हुई।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आपने अपनी दिनचर्या से संबंधित जो योजनाएं बनाई है, उन्हें किसी से भी शेयर ना करें। तथा चुपचाप शांतिपूर्ण तरीके से कार्य करने से आपको अवश्य ही सफलता मिलेगी। परिवार के साथ किसी धार्मिक स्थल पर ज...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser