पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नगर निगम चुनाव:शपथ पत्र में दी सूचना का सत्यापन नहीं कर सकेंगे रिटर्निंग अधिकारी

जाेधपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

निगम चुनाव में उम्मीदवार की ओर से नाम निर्देशन पत्र (नामांकन पत्र) के साथ शपथ पत्र में दी गई सूचना का रिटर्निंग अधिकारी अब ना ताे सत्यापन कर सकेंगे और ना ही किसी शिकायत के आधार पर अस्वीकार कर पाएंगे। किसी उम्मीदवार के शपथ पत्र में संतान संबंधी या फिर अन्य काेई भी जानकारी गलत हाेने की पुख्ता शिकायत हाेने के बावजूद रिटर्निंग अधिकारी के पास उस उम्मीदवार काे चुनाव लड़ने से रोकने का काेई अधिकार नहीं हाेगा।

ऐसी शिकायत करने वाला व्यक्ति उम्मीदवार के खिलाफ अदालत में सिविल दावा पेश कर सकेगा। रिटर्निंग अधिकारी काे हर उम्मीदवार के शपथ पत्र की छाया प्रति कार्यालय के सूचना पट्ट पर चस्पां करनी हाेगी और प्रतिनिधियों द्वारा मांगे जाने पर उपलब्ध करवानी हाेगी। नाम निर्देशन पत्र में कॉलम खाली हाेने पर रिटर्निंग अधिकारी उक्त उम्मीदवार काे मेमाे देगा। उसके पश्चात भी उम्मीदवार कमी पूरी नहीं करेगा ताे छंटनी के दाैरान उसका नाम निर्देशन पत्र स्वत: खारिज हाे जाएगा।

नए उम्मीदवारों काे एनओसी की काेई बाध्यता नहीं : निगम चुनाव के लिए उम्मीदवारी करने वाले नए लाेगाें काे पुलिस से चरित्र प्रमाण पत्र या फिर निगम की एनओसी लेने की काेई बाध्यता नहीं है। यह बाध्यता सिर्फ निगम में पार्षद रह चुके जनप्रतिनिधियों के लिए हाेगी। इसके अलावा किसी भी उम्मीदवार के विरुद्ध दाे से अधिक वर्षाें से निगम में काेई भी बकाया हाे और वसूली के लिए कार्रवाई शुरू हाे चुकी हाे, ऐसे उम्मीदवार काे निगम से एनओसी लेनी हाेगी, लेकिन इसके अलावा अन्य पर यह बाध्यता नहीं हाेगी।

खबरें और भी हैं...