RLP सुप्रीमो बेनीवाल बोले: ओबीसी आरक्षण पर नहीं बोले शाह:कहा- गहलोत कुर्सी बचाने के लिए कर रहे टाइमपास

जोधपुर3 महीने पहले
जोधपुर दौरे पर आए सांसद बेनीवाल ने भाजपा और कांग्रेस दोनों पार्टियों को जमकर घेरा।

RLP सुप्रीमो और सांसद हनुमान बेनीवाल शनिवार दोपहर 3 बजे जोधपुर पहुंचे। यहां सर्किट हाउस में कॉन्फ्रेंस करते हुए केंद्र और राज्य सरकार पर निशाना साधा। इसके साथ ही लंपी को लेकर भी जमकर घेरा।

बेनीवाल ने कहा- गाय और राम के नाम पर भाजपा हमेशा से वोट मांगती आई है। राजस्थान की जनता ने भाजपा के 24 सांसदों को जीताकर केंद्र भेजा, लेकिन लंपी जैसी भयावह बीमारी में एक भी सांसद के मुंह से कोई शब्द तक नहीं निकला।

देश के गृह मंत्री अमित शाह ने भी अपने जोधपुर के कार्यक्रम में लंपी को लेकर एक शब्द नहीं बोला। यह इस बात का संकेत है कि भाजपा वाले गाय के नाम पर जनता को मुर्ख बना रहे हैं। युवा इस बार इनके झांसे में नहीं आने वाला। राजस्थान सहित 12 से ज्यादा राज्य में लंपी महारामारी का रूप लेक चुकी है। है। संसद में सबसे पहले इसका मामला आरएलपी ने ही उठाकर केंद्र से उचित कदम उठाने की मांग की, लेकिन केंद्र और राज्य सरकार दोनों ने ही कोई ध्यान नहीं दिया। आज गांवों में हालात विकट है गहलोत सरकार केंद्र को चिट्ठी लिखकर औपचारिकता पूरी कर रहे हैं। इसे राष्ट्रीय आपदा घोषित किया जाना चाहिए।

बेनीवाल ने सर्किट हाउस में आमजन की समस्याएं भी सुनी।
बेनीवाल ने सर्किट हाउस में आमजन की समस्याएं भी सुनी।

कानून व्यवस्था वैंटिलेटर पर, गहलोत कुर्सी बचाने कर रहे टाइम पास

बेनिवाल ने सीएम गहलोत के घर में हमला बोलते हुए कहा वो खुद की कुर्सी बचाने में लगे हुए हैं। राजस्थान में जहां भी जाते हैं वहां के नेताओं की तारीफ कर कहते हैं यह नहीं होते तो सरकार नहीं बचती। आज राजस्थान में कानून व्यवस्था वेंटीलेटर पर है। एमएलए जनता को राहत देने के बजाय लूटने में लगे हैं।सीएम खुद अपनी कुर्सी बचाने के लिए इधर से उधर जाकर टाइम पास कर रहे हैं।

कहा- गहलोत कुर्सी बचाने के लिए कर रहे टाइम पास

बेनीवाल ने बातचीत में कहा- रीट पेपर भर्ती घोटाला, कोविड में सरकार के मिस मैनेजमेंट पर भी बीजेपी विपक्ष की भूमिका नहीं निभा रही है। नागौर सहित कई जगहों पर कांग्रेस नेताओं के खिलाफ हुए मुकदमों को लेकर भाजपा नेताओं के मुंह से एक शब्द नहीं निकला। यह इस बात का संकेत है कि राजस्थान में दोनों ही पार्टियों का सियासी गठजोड़ है।

अग्निवीर योजना पर वे बोले- केंद्र सरकार युवाओं के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रही है। इस योजना का विरोध करने वाली एकमात्र पार्टी आरएलपी ही थी। हमने जोधपुर में बड़ी रैली भी की थी। आगे भी 3-4 रैलियां और कर केंद्र सरकार को जगाने का प्रयास करेंगे। उस पर भी कोई निर्णय नहीं निकलता है तो फिर युवाओं के साथ दिल्ली कूच किया जाएगा।

राज्य की कानून व्यवस्था पर भी बेनीवाल ने सवाल उठाए।
राज्य की कानून व्यवस्था पर भी बेनीवाल ने सवाल उठाए।

ओबीसी का हक मारा जा रहा, लेकिन भाजपा मुर्ख बना रही
राज्य में ओबीसी का हक मारा जा रहा है। ओबीसी सम्मेलन के नाम पर देश के गृह मंत्री ने जोधपुर मीटिंग भी की थी उसमे राजस्थान के तमाम मंत्री, नेता शामिल हुए। लेकिन, ओबीसी बैठक में भी ओबीसी आरक्षण को लेकर चर्चा नहीं होना इस बात का संकेत है कि भाजपा वाले जनता को मुर्ख बनाना चाहते हैं।
उन्होंने गहलोत सरकार के एक मंत्री पर निशाना साधते हुए कहा कि मंत्री पद था उस समय ओबीसी की याद नहीं आई। जैसे ही मंत्री पद गया ओबीसी आरक्षण की मांग करने लगे। उन्होंने सरकार से ओबीसी आरक्षण की विसंगती दूर करने, लंपी को हामारी घोषित करने की मांग की है।

150 सीटों पर लड़ेंगे चुनाव
राजस्थान में 2023 में होने वाले विधानसभा चुनाव से जुड़े सवाल पर कहा कि इस बार 150 से अधिक सीटों पर उनकी पार्टी चुनाव लड़ेगी। इस बार आरएलपी और भाजपा में मुख्य मुकाबला रहेगा। कांग्रेस तीसरे स्थान पर रहेगी। पिछली बार 21सीट आई थी इस बार इससे भी कम सीट आने वाली है।