स्कूल में बच्चों को किताबें भी नहीं मिली:स्कूल क्रमोन्नत की मगर नहीं लगाया स्टाफ बच्चों और अभिभावकों ने की तालाबंदी

जोधपुर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कापरड़ा. स्कूल की तालाबंदी के बाद बाहर खङे बच्चे और अध्यापक। - Dainik Bhaskar
कापरड़ा. स्कूल की तालाबंदी के बाद बाहर खङे बच्चे और अध्यापक।

राउमावि सिन्धी नगर के क्रमोन्नत के बाद भी प्रधानाचार्य और व्याख्याताओं के रिक्त पदों को लेकर विद्यार्थियों के साथ ग्रामीणों ने गुरुवार को स्कूल की तालेबंदी कर दी। ताजुद्दीन मेहर ने बताया कि स्कूल क्रमोन्नत के बाद स्टाफ लगाया ही नहीं। बच्चों को किताबें तक नहीं दी। अर्द्ध वार्षिक परीक्षा को देखते हुए पढ़ाई नहीं हो रही। मजबूरन तालाबंदी करनी पड़ी। सरपंच अब्दुल अजीज और हाफिज युसुफ ने विधायक और उप जिला प्रमुख से फोन पर बात कर समस्या से अवगत करवाया।

जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक अमृतलाल इणकिया से बात करने पर शीघ्र किताबें दिलाने और अभी तक स्कूल को ऑनलाइन नहीं होने का कहते हुए बताया कि बीकानेर से शीघ्र ऑनलाइन होने पर पद स्वीकृत हो जाएंगे। डीपीसी के दौरान प्रधानाचार्य और व्याख्याताओं के पद भरे जाएंगे। आश्वासन के बाद ब्लॉक शिक्षा अधिकारी भेरुसिंह सांधु से किताबों के आश्वासन को लेकर अड़े रहे मगर कोई ठोस आश्वासन नहीं मिला। इस पर किताबें सरपंच ने अपने खर्च से देने की घोषणा की। दोपहर में ताला खोलने के बाद बच्चों और अध्यापकों को स्कूल में प्रवेश होने दिया।

प्रधानाध्यापिका रितु चारण ने कक्षा 11वीं और 12 वीं की नियमित कालांश लगाने का भरोसा दिलाया। ग्रामीणों ने बताया कि क्रमोनत के बाद से स्टाफ और किताबों के लिए प्रधानाध्यापिका, ब्लॉक अधिकारी और नोडल के यहां चक्कर काट रहे थे। कहीं कोई सुनवाई नहीं होने पर ताला लगाकर विरोध प्रदर्शन किया गया। इस दौरान भुट्टेखां, आलम खां, गफ्फार खां, समसुखां, रसालखां, इलियासखां, इलमदीन, अलानुर, शहाबुद्दीन उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...