मुंह से ड्रम जैसा इंस्ट्रूमेंट बजाकर मचा रहे धमाल:एक फोन कॉल से शुरुआत, यू-ट्यूब से प्रैक्टिस; अब एल्बम लाने की तैयारी

जोधपुर18 दिन पहले

ये टैलेंट न वॉकल है और न ही इंस्ट्रूमेंटल। लेकिन है खास। मुंह से म्यूजिक इंस्ट्रूमेंट की हूबहू आवाज निकालने को बीट बॉक्सिंग कहा जाता है और इस कला में माहिर हैं जोधपुर के 20 साल के परिचय पंवार। इस दिशा में परिचय सफलता का एक-एक पायदान चढ़ रहे हैं।

जोधपुर शहर के पावटा सी रोड के रहने वाले परिचय पंवार 20 साल के हैं। 5 साल से वह बीट बॉक्सिंग यानी मुंह से आर्केस्ट्रा ड्रम की धुन निकाल रहे हैं। पढ़ाई में अव्वल होने के साथ ही बीट बॉक्सिंग की दुनिया में भी अब वह धमाल मचा रहे हैं।

परिचय स्टेज पर परफॉर्मेंस देते हैं तो तालियों की आवाज के साथ लोग झूम उठते हैं।
परिचय स्टेज पर परफॉर्मेंस देते हैं तो तालियों की आवाज के साथ लोग झूम उठते हैं।

परिचय ने बताया कि बीकानेर के एक दोस्त ने फोन पर उन्हें बीट बॉक्सिंग सुनाई थी। तब वह 11वीं क्लास में थे। उम्र महज 15 साल थी। तभी से बीट बॉक्सिंग को लेकर इंट्रेस्ट जागा। परिचय ने यू-ट्यूब से बीट बॉक्सिंग के बारे में पता किया और प्रैक्टिस करने लगे। इस अनोखे हुनर के दम पर वह वेस्ट जोन के टॉप 4 बीट बॉक्सर में शामिल हैं।

परिचय जब बीट बॉक्सिंग को स्टेज पर परफॉर्म करते हैं तो सुनने वाले हैरान रह जाते हैं। तालियों से उनका हौसला बढ़ाते हैं। बीट बॉक्सिंग का स्टेज पर हुनर दिखाकर परिचय 15 से 25 हजार तक मंथली कमा लेते हैं। परिचय का कहना है कि बीट बॉक्सिंग की कला 1980 में अमेरिका से शुरू हुई थी। हाल के कुछ वर्षों में भारत में भी इसका क्रेज बढ़ा है।

परिचय जल्द ही खुद के ग्रुप कामनेशन (Kalmnation) के साथ बीट बॉक्सिंग से जुड़ा एक एलबम भी लॉन्च करने वाले हैं। उसमें कुल 10 गाने होंगे। खास बात यह है कि इसमें लगभग सभी साउंड किसी इंस्ट्रूमेंट के बजाय मुंह से निकली आवाजें होंगी।
परिचय जल्द ही खुद के ग्रुप कामनेशन (Kalmnation) के साथ बीट बॉक्सिंग से जुड़ा एक एलबम भी लॉन्च करने वाले हैं। उसमें कुल 10 गाने होंगे। खास बात यह है कि इसमें लगभग सभी साउंड किसी इंस्ट्रूमेंट के बजाय मुंह से निकली आवाजें होंगी।

परिचय ने बताया कि बीट बॉक्सिंग सिखाने के लिए इंडिया में फिलहाल को इंस्टीट्यूट नहीं है। इसकी ऑफलाइन ट्रेनिंग नहीं कराई जाती है। बीट बॉक्सर यू-ट्यूब के जरिए ही इस कला को सीखते हैं। परिचय ने 2017 में यू-ट्यूब से बीट बॉक्सिंग सीखना शुरू किया। पहले तो उन्हें यह मुश्किल लगा। फिर ग्रैंड बीट बॉक्स बैटल का फाइनल मुकाबला देखा तो मोटिवेशन मिला।

2 साल कड़ी मेहनत के बाद 2019 में बीबीएक्स की एक प्रतियोगिता के लिए इंस्टाग्राम पर खुद का पहला वीडियो अपलोड किया। इस वीडियो को खासा पसंद किया गया और 10 हजार व्यूज मिले। इस प्रतियोगिता में परिचय टॉप 16 में रहे, लेकिन जोधपुर का यूथ उन्हें जानने लगा।

बीट बॉक्सिंग का ऐसा जुनून सवार हुआ कि परिचय ने 1 साल के लिए पढ़ाई ड्रॉप कर दी और 6-7 घंटे प्रैक्टिस करने लगे। परिचय फिलहाल जयपुर से बीए इंग्लिश लिटरेचर की पढ़ाई कर रहे हैं। कक्षा 12 पास करने के बाद बीट बॉक्सिंग में करियर बनाने के लिए उन्होंने 1 साल तक कॉलेज में एडमिशन नहीं लिया। इस गैप में वे प्रैक्टिस करने लगे।

परिचय का कहना है कि इस हुनर को तराशने में माता-पिता ने काफी सपोर्ट किया। इसका फायदा 2020 जनवरी में मुंबई में हुए बीट बॉक्सिंग के नेशनल इवेंट में मिला। यहां देश भर के फेमस बीट बॉक्सर के बीच परफॉर्म करते हुए टॉप 16 में जगह बनाई। अब उनका अगला लक्ष्य दिसंबर 2022 में होने वाले इंडियन बीट बॉक्स फेस्टिवल को जीतना है। ताकि इंटरनेशनल लेवल पर देश का प्रतिनिधित्व कर सकें।

मई 2020 में परिचय बीट बॉक्सिंग में टॉप 4 में रहा। परिचय ने बताया कि आकाशवाणी के प्रोग्राम देख मेरा कॉन्फिडेंस बढ़ता गया। 1 साल पहले 2021 में ऑल इंडिया रेडियो में एक कार्यक्रम भी किया था, जिसमें 5 मिनट की प्रस्तुति दी थी।
मई 2020 में परिचय बीट बॉक्सिंग में टॉप 4 में रहा। परिचय ने बताया कि आकाशवाणी के प्रोग्राम देख मेरा कॉन्फिडेंस बढ़ता गया। 1 साल पहले 2021 में ऑल इंडिया रेडियो में एक कार्यक्रम भी किया था, जिसमें 5 मिनट की प्रस्तुति दी थी।

परिचय के पिता श्याम पंवार ऑल इंडिया रेडियो आकाशवाणी में प्रोग्राम एग्जीक्यूटिव हैं। मां हाउस वाइफ हैं। परिवार में एक छोटा भाई परिचित पंवार है, जिसने हाल ही में कक्षा 12 पास की है। परिचय सेंट जेवियर कॉलेज जयपुर से पढ़ाई कर रहे हैं।

ऑल इंडिया रेडियो मैं पिता प्रोग्राम एग्जीक्यूटिव होने की वजह से बचपन से ही आकाशवाणी जाने का मौका मिला। यहां पर 15 अगस्त व 26 जनवरी सहित कई मौकों पर कलाकारों को प्रस्तुति देते देखता तो खुद को भी काफी सीखने को मिला।

परिवार के साथ परिचय।
परिवार के साथ परिचय।

कुल मिलाकर कहूं तो ऑल इंडिया रेडियो में इस तरह के प्रोग्राम से मेरा स्टेज फीयर दूर हुआ। मैंने सबसे पहले पापा से गिटार सीखने की इच्छा जाहिर की। इसके लिए पापा से नया गिटार दिलाने की मांग की। पापा मेरे लिए नया गिटार लेकर मेरे बर्थडे पर आए। तब तक मैंने बीट बॉक्सिंग को सीखना शुरू कर दिया था।