हथाइयों के शहर में हथियार:सुभाष 5वीं बार हथियार तस्करी में गिरफ्तार, बड़ा सवाल- ऐसे अपराधियों पर रासुका क्यों नहीं?

जोधपुर21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मध्यप्रदेश से हथियार मंगवा ग्रामीण इलाकों में 8-10 हजार अधिक में बेच रहे, ऐसे ही 2 तस्कर डीएसटी पूर्व और डांगियावास-माता का थान पुलिस ने किए गिरफ्तार, 4 पिस्टल की बरामद। - Dainik Bhaskar
मध्यप्रदेश से हथियार मंगवा ग्रामीण इलाकों में 8-10 हजार अधिक में बेच रहे, ऐसे ही 2 तस्कर डीएसटी पूर्व और डांगियावास-माता का थान पुलिस ने किए गिरफ्तार, 4 पिस्टल की बरामद।

मध्यप्रदेश से लाए जा रहे अवैध हथियारों से शहर में अपराध बढ़ने के साथ शांति भंग हो रही है। कमिश्नरेट की जिला पूर्व की डीएसटी, डांगियावास और माता का थान पुलिस ने बुधवार रात को संयुक्त कार्रवाई कर दो युवकों को गिरफ्तार किया। एक युवक से तीन पिस्तौल व दूसरे से एक पिस्तौल जब्त की। दोनों से पूछताछ की जा रही है। हथियार बेचने का मुख्य आरोपी एमपी से किसी के मार्फत हथियार मंगवाकर आठ से दस हजार अधिक राशि लेकर बेचता था। उसने अधिकांश अवैध हथियार ग्रामीण इलाकों में बेचे हैं।

गौरतलब है कि एमपी से आ रहे अवैध हथियारों के कारण शहर में फायरिंग के साथ क्राइम की घटनाएं भी बढ़ी हैं। इतना ही नहीं, पुलिस कस्टडी में हिस्ट्रीशीटर पर गोलियां दागी जा चुकी हैं। डीसीपी पूर्व भुवनभूषण यादव ने बताया कि जिला पूर्व की डीएसटी को सूचना मिली कि नेतड़ा करवड़ निवासी सुभाष कांवा पुत्र श्रीराम विश्नोई अवैध हथियारों की खरीद-फरोख्त में लगा है। उसे पकड़ने पर अवैध हथियार बरामद हो सकते हैं। इस पर डीएसटी के एएसआई पुखराज, कांस्टेबल ओमाराम, देवाराम व जयराम व डांगियावास थानाधिकारी कन्हैयालाल के साथ टीम गठित की गई।

टीम ने ढाकों की ढाणी में दबिश देकर सुभाष कांवा को धर दबोचा। सुभाष के पास तीन अवैध पिस्तौल जब्त की गई। पूछताछ में उसने बताया कि एक पिस्तौल माता का थान मगरा पूंजला निवासी लोकेश गहलोत पुत्र कमलकिशोर को बेची है। डीसीपी पूर्व यादव के अनुसार माता का थान थानाधिकारी निशा भटनागर के साथ एक टीम ने लोकेश को दस्तयाब कर उसके पास से एक पिस्टल जब्त की। दोनों के

खिलाफ आर्म्स एक्ट में केस दर्ज किया
पुलिस के रडार पर था सुभाष, चार बार पहले पकड़ा जा चुका
पुलिस ने बताया कि सुभाष एमपी से अवैध हथियार मंगाता है। पिछले कुछ समय से ये पुलिस की रडार पर भी था। सुभाष पूर्व में भी अवैध हथियार की खरीद-फरोख्त मामले में 4 बार पकड़ा जा चुका है। मोटी कमाई मिलने से ये लगातार हथियारों का ही काम करता है।

विवाह समारोह का काम करने वाले लोकेश ने मौज-शौक के लिए खरीदी पिस्तौल
लोकेश विवाह समारोह का काम करता है। वह पिछले लंबे समय से सुभाष के संपर्क में था। मौज-शौक व टशन के लिए उसने सुभाष को कहा कि उसको भी एक पिस्तौल चाहिए। इस पर एमपी से आई 6 पिस्तौल में से एक पिस्तौल लोकेश को बेच दी थी।

खबरें और भी हैं...