पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नाबालिग से दुष्कर्म का आरोपी दोषी करार:कोर्ट ने आरोपी को पॉक्सो एक्ट में दोषी करार देते हुए 20 वर्ष का कठोर कारावास

जोधपुर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

पॉक्सो कोर्ट जोधपुर जिला की पीठासीन अधिकारी मोहिता भटनागर ने नाबालिग से दुष्कर्म के आरोपी युवक को दोषी करार देते हुए 20 साल की सजा से दंडित किया है। मामले के अनुसार प्रार्थी ने 23 सितंबर 2017 को लोहावट थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई कि 22 सितंबर 2017 को शाम 7 बजे एक खेत पर जागरण होने से वह अपनी 13 साल की पुत्री को ढाणी पर ही छोड़कर परिवार सहित गया था।

रात 12-1 बजे उसके सगे भाई का फोन आया, पीड़िता घर पर चिल्ला रही है व खेत से आरोपी को निकलते हुए टॉर्च की लाइट में देखा है। इस पर रात में ही वह अपनी पत्नी के साथ मोटरसाइकिल से ढाणी पर आया, तब देखा कि उसकी बेटी रो रही थी। उसकी सलवार फटी हुई थी। उसने बताया कि आरोपी उसके घर आया और सोती हुई पुत्री का मुंह दबा दिया व उसे चाकू दिखाया, जिससे वह डर गई।

आरोपी ने उसके साथ दुष्कर्म किया। चिल्लाने पर उसके चाचा मौके पर आए। पुलिस ने जांच कर आरोपी के खिलाफ आरोप पत्र पेश किया। अपर लोक अभियोजक रामपाल विश्नोई ने पैरवी कर आरोपी को कड़ी सजा देने का आग्रह किया। सभी पक्ष सुनने के बाद कोर्ट ने कहा कि नाबालिग बालिकाएं अपने रहवासीय मकान में भी सुरक्षित नहीं हैं।

समाज में नाबालिग बालिकाओं के अपहरण व बलात्कार एवं उनके साथ हो रहे अत्याचारों व अपराधों की गंभीरता को देखते हुए हुए आरोपी के संबंध में नरमी का रुख अपनाया जाना न्यायोचित नहीं है। कोर्ट ने आरोपी को पॉक्सो एक्ट में दोषी करार देते हुए 20 वर्ष के कठोर कारावास एवं 5 लाख 30 हजार रुपए के अर्थदंड से दंडित किया। इसमें से 2 लाख रुपए पीड़िता के पुनर्वास के लिए देने के आदेश दिए।

खबरें और भी हैं...