पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

डिस्कॉम घोटाला:आहत लिपिक बोले- मूल काम हमें दो, मलाईदार पदों से हेल्पर को हटाओ

जोधपुर16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

जोधपुर डिस्कॉम के लूणी व सालावास में एसएसए-3 मोहम्मद शरीफ, हेल्पर विक्रमसिंह नरूका, अजय मीणा व रिटायर मीटर रीडर ओमप्रकाश द्वारा 1.45 करोड़ रुपए से अधिक के घोटाले से आहत डिस्कॉम के लिपिकों ने अब मलाईदार पदों से हेल्पर को हटाकर उनको लगाने की मांग की है।

दरअसल, डिस्कॉम के लूणी व सालावास सब डिवीजन में मोहम्मद शरीफ व विक्रमसिंह नरूका द्वारा डेढ़ करोड़ से ऊपर की राशि के घपले किए गए। इसकी जांच अभी चल रही है। इधर इन लोगों की तरह मंडोर सब डिवीजन में भी ग्रामीण क्षेत्र में कैंप लगाकर बिजली बिल की राशि जमा होती थी।

इसलिए वहां पर भी शक की सूई घुमी हुई है। इधर रोकड़, स्टोर व उपभोक्ता शाखा जैसी मलाईदार पोस्ट पर हेल्पर से कार्य करवाने और लिपिकों को सामान्य शाखा का काम देने से व्यवस्थाएं बिगड़ रही हैं। यही कारण है कि अब मंत्रालयिक कर्मचारियों ने डिस्कॉम प्रशासन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।
मंत्रालयिक कर्मचारियों ने हेल्पर को मलाईदार पदों से हटाने की मांग की
राजस्थान राज्य विद्युत मंत्रालयिक कर्मचारी संगठन ने डिस्कॉम एमडी को ज्ञापन देकर मंत्रालयिक कर्मचारियों को सब डिवीजन में पद अनुरूप लगाने व घोटालों को रोकने के लिए मलाईदार पदों से हेल्पर को हटाने की मांग की। महामंत्री मुकेश कटारिया ने बताया कि लिपिकों को सब डिवीजन में पदवार लगाने से डिस्कॉम की कार्यप्रणाली भी बेहतर होगी।

इधर, वसूली के लिए भेजा नोटिस : डिस्कॉम में 1.45 करोड़ रुपए से अधिक के घोटाले की पोल खुलने के बाद डिस्कॉम द्वारा लेजर में मिले सबूतों के आधार पर एसएसए-3 मोहम्मद शरीफ, हेल्पर विक्रमसिंह नरूका, अजय मीणा व रिटायर मीटर रीडर ओमप्रकाश द्वारा लूणी सब डिवीजन के 1544 उपभोक्ताओं की हजम की गई राशि लौटाने का नोटिस जारी किया है।

डिस्कॉम एसई जिला वृत्त पीएस चौधरी के अनुसार कर्मचारियों को नोटिस जारी किया गया है। वहीं इनके द्वारा और भी राशि अपनी जेब में डालने की संभावना है। इसलिए ऑडिट टीम द्वारा सालावास में लेजर की बारीकी से जांच हो रही है।

खबरें और भी हैं...