पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मौसम:रातें ठंडी, पर पारा 17.70 के नीचे नहीं गया, गत 3 वर्ष 24 अक्टूबर तक ही था 160 तक

जोधपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
विगत 15 सालों में 2012 में अक्टूबर माह सबसे अधिक ठंड रहा

शहर में इस बार सर्दी देरी से असर दिखा रही है, पिछले तीन साल के आंकड़े देखें तो शहर का न्यूनतम तापमान 24 अक्टूबर तक ही 16 डिग्री के आस-पास पहुंच गया थाा, लेकिन इस बार 17.7 से नीचे अभी तक नहीं उतर पाया है। मौसम वैज्ञानिकों का मानना है कि इस सप्ताह के अंत तक शहर में सर्दी का असर दिखने लगेगा, लेकिन अभी अलसुबह व देर रात ठंड महसूस हाे रही है। रविवार अलसुबह ठंडक थी, लेकिन खुली धूप से न्यूनतम तापमान 18.7 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया।

दिन निकलने के साथ धूप निकली, लेकिन दोपहर हल्की हवाएं चलने से तापमान एक डिग्री सेल्सियस की गिरावट के साथ 34.2 डिग्री पहुंच गया। शाम के बाद भी हल्की ठंडक हुई। आंकड़ों के अनुसार शहर का अक्टूबर माह का औसत न्यूनतम तापमान 20.1 है, लेकिन यह अक्टूबर मध्य तक रहता है। इसके बाद उतरने लगता है। पिछले तीन दिन से शहर का तापमान 20 के नीचे ही है, लेकिन 17.7 डिग्री से नीचे नहीं उतर पाया, जबकि पिछले तीन साल में 24 अक्टूबर तक ही रात का पारा 16 डिग्री सेल्सियस के आस-पास पहुंच गया था।
आगे : माह अंत तक उत्तर से चलने लगेंगी हवाएं
वर्तमान में हवाएं पश्चिमी चल रही हैं, इसलिए ज्यादा ठिठुरन नहीं है। अगले कुछ दिनों में हवाएं उत्तर व पूर्व से चलने लगेंगी और तापमान में गिरावट का दौर शुरू हो जाएगा। संभवत: माह अंत तक हवाओं का रूख बदल जाएगा।
आने लगेंगे पश्चिमी विक्षोभ: नवंबर माह से पश्चिमी विक्षोभ आने लगते हैं, जिससे उत्तरी व पूर्वी क्षेत्रों में बर्फबारी होती है और इनके निकलने के बाद हवाओं की दिशा उत्तर व पूर्व हाे जाती है। इसके साथ ही तापमान में गिरावट व ठिठुरन बढ़ने लगती है।
15 साल में 2012 सबसे ठंडा
विगत 15 सालों में 2012 में अक्टूबर माह सबसे अधिक ठंड रहा। तब 28 अक्टूबर को शहर का न्यूनतम तापमान 14.8 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड हुआ था, जबकि ऑल टाइम रिकॉर्ड के हिसाब से 29 अक्टूबर 1983 को न्यूनतम तापमान 12.5 दर्ज है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर-परिवार से संबंधित कार्यों में व्यस्तता बनी रहेगी। तथा आप अपने बुद्धि चातुर्य द्वारा महत्वपूर्ण कार्यों को संपन्न करने में सक्षम भी रहेंगे। आध्यात्मिक तथा ज्ञानवर्धक साहित्य को पढ़ने में भी ...

और पढ़ें