पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

लड़ाकू विमानों से पुराना है रिश्ता:जोधपुर का फाइटर विमानों से 96 साल पुराना है कनेक्शन, दूसरे विश्व युद्ध में यहां से रोजाना 400 विमान उड़ान भरते थे

जोधपुर3 महीने पहलेलेखक: सुनील चौधरी
  • कॉपी लिंक
जोधपुर फ्लाइंग क्लब की स्थापना करने वाले महाराजा उम्मेद सिंह अपने बच्चों के साथ। इनमें से उनके बड़े बेटे हनवंत सिंह का विमान हादसे में निधन हो गया था। - Dainik Bhaskar
जोधपुर फ्लाइंग क्लब की स्थापना करने वाले महाराजा उम्मेद सिंह अपने बच्चों के साथ। इनमें से उनके बड़े बेटे हनवंत सिंह का विमान हादसे में निधन हो गया था।
  • दूसरे विश्व युद्ध के दौरान इस फ्लाइंग क्लब पर ब्रिटिश रायल एयर फोर्स ने टेकओवर कर लिया था

जोधपुर में भारत-फ्रांस युद्धाभ्यास डेजर्ट नाइट-21 का आज तीसरा दिन है। 20 जनवरी से शुरू हुआ यह युद्धाभ्यास 24 जनवरी तक चलेगा। इन दिनों जोधपुर के आसमान में फाइटर जेट की गड़गड़ाहट यहां के लोगों को रोमांचित कर रही है। सूर्यनगरी घूमने आए लोगों के लिए सुबह-शाम आसमान में नीची उड़ान भरते एयरफोर्स के फाइटर्स जेट को देखना एक रोमांच भरा अहसास हो सकता है, लेकिन जोधपुर के लोगों के लिए यह आम हो चुका है। क्योंकि यहां विमानों की उड़ान का इतिहास भारतीय एयर फोर्स की स्थापना से भी पुराना है। जोधपुर के राजा उम्मेद सिंह ने 1924 में ही यहां प्लाइंग क्लब की स्थापना की थी। इसके बाद इसे भारतीय वायु सेना का एयर बेस बना दिया गया।

युद्धाभ्यास डेजर्ट नाइट के दौरान उम्मेद भवन के ऊपर से 4 राफेल को लीड करता फाइटर जेट सुखोई।
युद्धाभ्यास डेजर्ट नाइट के दौरान उम्मेद भवन के ऊपर से 4 राफेल को लीड करता फाइटर जेट सुखोई।

इंडियन एयर फोर्स से भी पुराना है जोधपुर एयरबेस
आजादी से पहले रॉयल एयर फोर्स के तहत हमारी एयर फोर्स की स्थापना अक्टूबर 1932 को हुई, लेकिन उससे पहले जोधपुर का यह एयर बेस अस्तित्व में आ चुका था। जोधपुर के तत्कालीन महाराजा उम्मेद सिंह खुद हवाई जहाज उड़ाने के शौकीन थे। उन्होंने देश में सबसे पहले हवाई जहाज उड़ाने का भी लाइसेंस हासिल किया था। इसके साथ ही उन्होंने ऊटों पर यात्रा करने वाले मारवाड़ के लोगों के लिए जोधपुर में 1924 में ही फ्लाइंग क्लब का निर्माण शुरू करवा दिया। उस समय उनके पास दो हवाई जहाज थे। उस दौर में महाराजा उम्मेद सिंह ने मारवाड़ रियासत में 24 हवाई पटि्टयों का निर्माण करवा दिया था। इस फ्लाइंट क्लब में आजादी से पहले 5 से 10 रुपए में जोधपुर की यात्रा कराई जाती थी।

दिन में रोज भरी जाती थी 400 उड़ान
दूसरे विश्व युद्ध के दौरान इस एयर बेस पर ब्रिटिश रायल एयर फोर्स ने टेकओवर कर लिया था। इसके महत्व का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि दूसरे विश्व युद्ध के दौरान यहां से रोजाना 400 विमान उड़ान भरते थे। युद्ध के दौरान इस हवाई अड्डे पर उस जमाने के हैरीकेन, स्पिट फायर, मस्तंगा, एरो कोबारा, डकोटा, हरसन, हैलीपैक्स, बेलिंगटन, लिवरेटा, टैम्पेस्ट, टाइफोन समेत अनेक लड़ाकू विमान उडान भरते थे।

जोधपुर में पांच व दस रुपए में हवाई जहाज की यात्रा कराई जाती थी। इसमें शहर का एक चक्कर लगाया जाता था।
जोधपुर में पांच व दस रुपए में हवाई जहाज की यात्रा कराई जाती थी। इसमें शहर का एक चक्कर लगाया जाता था।

1971 के ​​​​​​युद्ध में महत्वपूर्ण भूमिका
1971 के युद्ध में इस एयरबेस पर पाकिस्तान ने 3 दिसम्बर को हवाई हमला कर दिया था। एक के बाद एक कर तीन धमाके हुए, लेकिन एयरबेस को कोई नुकसान नहीं हुआ था। युद्ध की शुरुआत के बाद पाकिस्तान के फाइटर्स जोधपुर के पास तक नहीं पहुंच पाए। इसके बाद यहां से उड़ान भर हमारे लड़ाकू विमानों ने पाकिस्तान में कई हमले किए। पाकिस्तान को बहुत नुकसान पहुंचाया। सबसे महत्वपूर्ण हमला पाकिस्तान के सबसे बड़े गैस उत्पादक क्षेत्र सुई पर किया गया था। इसे पूरी तरह तहस-नहस कर दिया गया। इस कारण पाकिस्तान में 6 महीने तक गैस उत्पादन ठप रहा।

जोधपुर के राजा उम्मेद सिंह ने 1924 में जोधपुर में प्लाइंग क्लब की स्थापना की थी। इसके बाद इसे भारतीय वायु सेना का एयरबेस बना दिया गया।
जोधपुर के राजा उम्मेद सिंह ने 1924 में जोधपुर में प्लाइंग क्लब की स्थापना की थी। इसके बाद इसे भारतीय वायु सेना का एयरबेस बना दिया गया।

यह है महत्व
इंडियन एयर फोर्स सामरिक नजरिए से अपने एयर बेस को प्राथमिकता देती है न कि किसी शहर के अनुसार। जोधपुर एयर बेस की विशालता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि इसमें एक साथ 100 फाइटर्स सहित बड़ी संख्या में हेलिकाप्टर्स समाहित हो सकते हैं। इसके अलावा एयर फोर्स के सभी अत्यधुनिक मिसाइल व राडार सिस्टम इस एयर बेस पर मौजूद हैं। वर्तमान में सुखोई फाइटर जेट इस एयर बेस की शान है। इसे सबसे पहले यहां पर तैनात किया गया था।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- इस समय निवेश जैसे किसी आर्थिक गतिविधि में व्यस्तता रहेगी। लंबे समय से चली आ रही किसी चिंता से भी राहत मिलेगी। घर के बड़े बुजुर्गों का मार्गदर्शन आपके लिए बहुत ही फायदेमंद तथा सकून दायक रहेगा। ...

और पढ़ें