पैरोल के लिए हाईकोर्ट से गुहार:मां की हत्या करने वाले बेटे ने हाईकोर्ट को चिट्‌ठी लिखकर की पैरोल की गुहार

जोधपुर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पैरोल नहीं मिलने से परेशान कैदी याचिकाकर्ता ने अब हाईकोर्ट को चिट्‌ठी लिखी (प्रतिकात्मक फोटो) - Dainik Bhaskar
पैरोल नहीं मिलने से परेशान कैदी याचिकाकर्ता ने अब हाईकोर्ट को चिट्‌ठी लिखी (प्रतिकात्मक फोटो)

खुद की ही मां की हत्या करने वाला बेटा जोधपुर की सेंट्रल जेल में है और पैरोल पर बाहर आना चाहता है, लेकिन उसे पैरोल नहीं मिल रही है। उसका एक ही भाई है, वह भी आंध्रप्रदेश में रहता है, लेकिन वह भी उसके प्रतिकूल है।

पैरोल नहीं मिलने से परेशान कैदी याचिकाकर्ता ने अब हाईकोर्ट को चिट्‌ठी लिखी, जिस पर जस्टिस संदीप मेहता व देवेंद्र कच्छवाहा ने सुनवाई करते हुए जिला विधिक सेवा प्राधिकरण जोधपुर मेट्रो के पूर्णकालिक सचिव को लीगल वॉलंटियर को भेजकर रिपोर्ट मंगाने के आदेश दिए हैं। मामले में अगली सुनवाई 6 अप्रैल को होगी।

जोधपुर सेंट्रल जेल में बंद श्रीकांत पर खुद की मां की हत्या करने का अपराध सिद्ध हो चुका है। उसके रिश्तेदार के रूप में केवल एक भाई है, वह आंध्रप्रदेश में रहता है और उसका विरोधी है। याचिकाकर्ता बंदी के खुली जेल से भागने की भी रिपोर्ट है। अब उसने पैरोल के लिए हाईकोर्ट को पत्र के जरिए पिटीशन भेजकर गुहार की है।

हाईकोर्ट ने जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के पूर्णकालिक सचिव को सेंट्रल जेल की विजिट के लिए एक पैरालीगल वॉलंटियर नियुक्त करने के आदेश दिए हैं। वह वॉलंटियर उसे इन सब तथ्यों से अवगत कराएगा। अगर वह अपने रिश्तेदारों के बारे में जानकारी देता है, जो उसकी जमानत देगा और पैरोल अवधि के दौरान किसके साथ रहने का इच्छुक है। इस संबंध में एक रिपोर्ट तैयार कर इस कोर्ट के समक्ष पेश की जाएगी। कोर्ट ने एएजी फर्जंद अली को कोर्ट को ऑरिजनल दस्तावेज उपलब्ध कराने को कहा है।

खबरें और भी हैं...