पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • The Tsunami Of Patients Caused The Crisis Of Oxygen rich Beds In Hospitals, The Appeal Of The Collector, The People Giving The Contributor Donations

जोधपुर में कोरोना:मरीजों की सुनामी से अस्पतालों में खड़ा हुआ ऑक्सीजन युक्त बेड का संकट, कलेक्टर की भावुक अपील- कंसंट्रेटर दान दें लोग

जोधपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जोधपुर के कलेक्टर इंद्रजीतसिंह। - Dainik Bhaskar
जोधपुर के कलेक्टर इंद्रजीतसिंह।
  • ताकि कम गंभीर मरीजों को घर पर भी मिल सके ऑक्सीजन की सुविधा

जोधपुर में कोरोना की सुनामी ने अस्पतालों व जिला प्रशासन के सामने ऐसा संकट खड़ा कर दिया है कि प्राण वायु ऑक्सीजन की व्यवस्था आखिर करें तो कहां से करें। ऑक्सीजन की आपूर्ति सुनिश्चित करने में संसाधनों की कमी भी भारी पड़ रही है। ऐसे में मरीजों की जान बचाने के लिए कलेक्टर ने लोगों से अपील की है कि वे ऑक्सीजन कंसंट्रेटर सहित अन्य चिकित्सा उपकरण प्रदान कर सहयोगकरें। लोगों का यह प्रयास बहुत लोगों की जिंदगी बचाने में काम आएगा।

कलेक्टर की भावुक अपील

कलेक्टर ने शहर के आमजन के नाम एक भावुक अपील में कहा है कि वर्तमान में पूरा देश व जोधपुर कोरोना महामारी के भयावह संक्रमण से जूझ रहा है। महामारी के इस विकट समय में अस्पतालों में बेड की कमी व ऑक्सीजन का संकट पैदा हो रहा है। राज्य सरकार द्वारा हर संभव प्रयास किया जा रहा है, लेकिन जब समाज साथ देता है तो हाथ और भी मजबूत हो जाते हैं। वर्तमान में जोधपुर जिले में ऑक्सीजन की कमी को पूरा करने के लिए बाहर से ऑक्सीजन मंगवाई जा रही है। इसके बावजूद कमी बनी हुई है। ऑक्सीजन की और जरूरत है। इस जरूरत को पूरा करने में आपका सहयोग ऑक्सीजन कंसंट्रेट व चिकित्सा उपकरण के रूप में अपेक्षित है। आप सभी से निवेदन है की ऑक्सीजन कंसंट्रेटर व चिकित्सा उपकरण का सहयोग करके ज़िला प्रशासन को सम्बल प्रदान करें। आपकी ओर से किया गया यह प्रयास बहुत सारी जिंदगियां बचाने के काम आएगा।

यूं दिया कोरोना संक्रमितों की बढ़ती संख्या का हवाला

जोधपुर में मई माह के पहले छह दिन में ही 12,429 संक्रमित मिल चुके हैं। हालांकि इस दौरान 8,787 को डिस्चार्ज किया गया। साथ ही एक्टिव केस पच्चीस हजार से अधिक हो चुके हैं। इस बार अधिकतर संक्रमित लोगों को ऑक्सीजन की आवश्यकता पड़ रही है। ऐसे में अस्पतालों पर दबाव बेहद बढ़ गया है। अस्पतालों में अब बेड खाली नहीं हैं और लोगों को कई घंटों के इंतजार के बाद एक बेड मुश्किल से मिल पा रहा है। ऐसे में प्रशासन का प्रयास है कि थोड़े स्टेबल होते ही मरीज को छुट्‌टी दे दी जाए और अधिक गंभीर मरीज को भर्ती किया जाए। लेकिन कम गंभीर मरीजों को भी ऑक्सीजन की आवश्यकता पड़ेगी। इसकी पूर्ति ऑक्सीजन कंसंट्रेटर से पूरी की जा सकती है। इसे ध्यान में रख कलेक्टर इंद्रजीत सिंह ने लोगों से इसे उपलब्ध कराने की अपील की है।