पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • There Was A Mistake On The Online Payment, The Customer Reached The Police Station To Collect The Money, The Police Was Also Ready! Kulfiwala Was Brought To The Police Station With A Handcart

40 रु. की कुल्फी का झगड़ा थाने पहुंचा:ऑनलाइन पेमेंट पर हुई गफलत, ग्राहक पैसे लेने थाने पहुंचा, पुलिस भी हुई तत्पर! कुल्फीवाले को ठेले सहित थाने लाई

जाेधपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शास्त्रीनगर थाने में आइसक्रीम का ठेला लेकर आया कुल्फीवाला। - Dainik Bhaskar
शास्त्रीनगर थाने में आइसक्रीम का ठेला लेकर आया कुल्फीवाला।
  • ना आइसक्रीम खाने वाले और ना बेचने वाले ने रखी ठंड
  • पुलिस ने दोनों को समझाकर मामला सुलझाया

शहर के शास्त्री सर्किल पर सोमवार रात 40 रु. की आइसक्रीम के भुगतान को लेकर अजीबोगरीब घटनाक्रम हो गया। मामला इतना बढ़ा कि ग्राहक और आइसक्रीम ठेलावाला पुलिस तक पहुंच गए। हालांकि बाद में पुलिस ने दोनों को समझाइश कर मामला शांत करवाया। हैंडीक्राफ्ट व्यवसायी प्रदीप कुमार सोमवार रात शास्त्री सर्किल पर आइसक्रीम खाने आए। उन्होंने एक ब्रांडेड कंपनी के ठेलेवाले से 40 रु. की आइसक्रीम ली एवं इसे वहीं पर खाया। बाद में उन्होंने इसका पेमेंट ऑनलाइन किया।

आइसक्रीम के ठेलेवाले शब्बीर ने कहा कि उसे पेमेंट मोबाइल पर प्राप्त नहीं हुआ है। इस पर प्रदीप ने दूसरी बार और ऑनलाइन पेमेंट किया। इस बार भी शब्बीर ने पेमेंट प्राप्त होने से इनकार किया। इस पर दोनों में बोलचाल हो गई। प्रदीप का कहना था कि उन्होंने तो 2 बार पेमेंट कर दिया है। जबकि शब्बीर का कहना था कि जब पैसे ही नहीं हैं तो आइसक्रीम खाने क्यों आए हो।

इस विवाद से नाराज होकर ग्राहक प्रदीप शास्त्री नगर थाने पहुंच गए। वहां पर उन्होंने घटनाक्रम बताते हुए अपने 40 रुपए वापस दिलवाने की शिकायत दी। एक बार तो पुलिस भी पूरी घटना सुनकर चौंक गई। हालांकि प्रदीप की जिद पर उन्होंने आइसक्रीम विक्रेता शब्बीर को पुलिस थाने आने का कहा। इस पर कुछ देर बाद शब्बीर अपना आइसक्रीम का ठेला लेकर ही पुलिस थाने आ गया। पुलिस ने दोनों से उनका पक्ष पूछा।

एकाउंट में पैसे तो आए, पर पता नहीं चला

पुलिस ने थोड़ी तफ्तीश की तो सामने आया कि आइसक्रीम विक्रेता के ऑनलाइन पेमेंट लेन-देन के दो अकाउंट हैं। इनमें से एक अकाउंट पर 40 रु., 40 रु. का दो बार पेमेंट आया भी था। हालांकि शब्बीर को ऑनलाइन एप की इतनी जानकारी नहीं होने से उसे इसका पता ही नहीं चला। वह दूसरे अकाउंट में रुपए प्राप्त होने की एंट्री ढूंढ रहा था। इस पर हेड कांस्टेबल दिनेश ने दोनों को समझाया और राजीनामा करवा घर भेजा।

मैं रोज की तरह आइसक्रीम खाने गया था, पेमेंट करने और मुझे जानने के बावजूद आइसक्रीम वाले ने बदतमीजी की। हालांकि मैंने कानूनी रास्ता ही अपनाया।
- प्रदीपकुमार, ग्राहक

रात को ज्यादा ग्राहकी से मैं थोड़ा उलझन में था। मेरे मोबाइल पर पेमेंट नहीं आया था। मैं टेक्नोलॉजी का इतना जानकार नहीं हूं, इससे कंफ्यूजन हो गया।
- शब्बीर, आइसक्रीम वाला

खबरें और भी हैं...