पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मंडे पॉजिटिव:ये हैं नई पीढ़ी के नेता, ग्रामीणों ने सौंपी युवा इंजीनियरों को पंचायत की बागडाेर

जोधपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • घंटियाली के छित्तरबेरा व भोपालगढ़ के हीरादेसर के नवनिर्वाचित सरपंच जिले में सबसे कम उम्र के, दोनों ने इंजीनियरिंग की, अब लिया गांवों के विकास का जिम्मा

कहा जाता है कि सरपंचों का चुनाव विधायक व सांसद के चुनाव से भी बड़ा कठित होता है। कारण अधिकांश पंचायत क्षेत्र में मतदाताओं की संख्या 1200 से 3000 के बीच ही होती है। दूसरी ओर गांव में कभी मामूली बात पर हुआ मनमुटाव भी सरपंचों के चुनाव के दौरान मुखर होकर सामने आता है। इससे कई वोट इधर उधर हो जाते हैं। गांव में बरसों बरस से पंच पंचायती करने वाले लोग तो यह सब साधने में माहिर होते हैं लेकिन नए लोगों को काफी परेशानियां आती है। ऐसे में पहली बार राजनीति में कदम रखने वाले कुछ चेहरों को ग्रामीणों ने इस बार समर्थन देकर सरपंच बनाया है।

इन्हें पहले राजनीति व चुनाव का कोई अनुभव नहीं है। इनमें शामिल हैं भोपालगढ़ के हीरादेसर गांव की सरपंच अंजु चौधरी व घंटियाली के छित्तरबेरा पंचायत के सरपंच विकास विश्नोई। दोनों ही सबसे कम उम्र के व उच्च शिक्षित है। इन्होंने अपने प्रोफेशन से इतर गांव की सेवा करने के लिए राजनीति का क्षेत्र चुना है। उच्च शिक्षित होने के कारण इनके पास गांव की तस्वीर बदलने का विजन और इच्छा शक्ति भी है। इन्होंने भास्कर से साझा कि अपने सरपंच बनने की कहानी। पढ़िए...

1. हीरादेसर सरपंच अंजू चौधरी: उम्र 22 साल, शिक्षा बीटेक
अंजू इंजीनियर है। स्कूली शिक्षा के बाद बीटेक (इलेक्ट्रिक) की। अब गांव की तस्वीर बदलने का सपना है। उन्होंने पद भार ग्रहण करने के साथ एक दर्जन विकास कार्यों के प्रस्ताव भी भिजवा दिए हैं। वे बतातीं हैं कि गांव की छात्राएं खेलों में हमेशा अव्वल रही है लेकिन खेल मैदान नहीं है। वह जब कॉलेज से वापस आती थी तो छात्राएं कंकर व झाड़ियों वाली जगहों पर प्रेक्टिस करती थी। अब इच्छा है कि चारों गांवों में खेल मैदान बनाऊं। महिलाओं को सिर पानी ढोते, पक्की सड़क का अभाव सहित कई चीजें उसे परेशान करती थी।

ये सब देखकर उसने गांव की तस्वीर बदलनी की ठानी है। महिलाओं को बहुत ज्यादा उम्मीदें हैं। सरपंच बनने के लिए चाचा खींयाराम सोऊ ने प्रेरित किया। पिता हड़मानराम शिक्षक हैं। अंजू ने बताया कि घर-घर पानी, गांवों को सड़कों से जोड़ने, सीसीटीवी लगाने व खेल मैदान बनाना प्राथमिकता रहेगी। ग्राम विकास अधिकारी शोभाराम जाट व कनिष्ठ सहायक जोगाराम जाखड़ ने बताया कि तांबडिया कलां में खेल मैदान, मॉडल तालाब, तांबडिया खुर्द में खेल मैदान व मुक्ति धाम, हीरादेसर में मुक्ति धाम व मॉडल तालाब सहित एक दर्जन काम स्वीकृति के लिए भेजे हैं।

2. छित्तरबेरा सरपंच विकास विश्नोई: उम्र 22 साल, शिक्षा बीटेक
घंटियाली पंचायत समिति क्षेत्र की छित्तर बेरा पंचायत के सरपंच बने हैं विकास विश्नोई। 22 वर्षीय विश्नोई ने भी बीटेक सिविल इंजीनियरिंग कर रखी है। रविवार को उन्होंने पद भार ग्रहण कर लिया। अब वे अपनी योग्यता का गांव के विकास के लिए इस्तेमाल करेंगे। इनकी प्राथमिकताओं में गांव का समग्र विकास, घर-घर पेयजल पहुंचाना, गरीबों के पक्के मकान बनाना और नई पीढ़ी के युवाओं को भटकने से बचाना है। वे गांव में नशा मुक्ति अभियान चलाना चाहते हैं। उन्होंने बताया कि उम्मीद है कि जिस तरह ग्रामीणों ने मुझे सरपंच बनाने में सहयोग किया, ठीक वैसा ही समर्थन नशा मुक्ति अभियान में भी मिलेगा।

वे बताते हैं कि वे अपनी योग्यता व गांव के विकास के विजन को ग्रामीणों के सामने रखकर चुनाव में उतरे थे। ग्रामीणों ने उन पर भरोसा किया है। अब मेरी बारी है कि उनकी उम्मीदों पर खरा उतर सकूं। पंचायत क्षेत्र में सबसे बड़ी समस्या पेयजल की है। यहां पानी पीने योग्य नहीं है। इसका निस्तारण सबसे पहले कराया जाएगा। साथ ही हर मोहल्ले में सड़क का निर्माण कराऊंगा। सिविल इंजीनियर होने के नाते एस्टीमेट एवं कंस्ट्रक्शन पर विशेष ध्यान रहेगा। जरूरतमंदों के हितों को बिचौलियों से प्रभावित नहीं होने देने का भरोसा है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज व्यक्तिगत तथा पारिवारिक गतिविधियों के प्रति ज्यादा ध्यान केंद्रित रहेगा। इस समय ग्रह स्थितियां आपके लिए बेहतरीन परिस्थितियां बना रही हैं। आपको अपनी प्रतिभा व योग्यता को साबित करने का अवसर ...

और पढ़ें