पुलिस चौकी की सुरक्षा रामभरोसे…:चोरों ने 7-8 बार मालखाने से चुराया था डोडा पोस्त, पुलिस ने एक नाबालिग को लिया संरक्षण में व साथी पहले से जेल में

जोधपुर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पचपदरा चौकी से 10 क्विंटल डोडा पोस्त चुराने का खुलासा। - Dainik Bhaskar
पचपदरा चौकी से 10 क्विंटल डोडा पोस्त चुराने का खुलासा।

शेरगढ़ पुलिस थाना क्षेत्र के डेरिया गांव में हुई चोरी की वारदात व पचपदरा थाना के कस्बा चौकी में रखा माल खाना में चोरी हुए करीब 10 क्विंटल डोडा पोस्त की वारदात का खुलासा करते हुए पुलिस ने एक विधि से संघर्षरत बालक को निरुद्ध किया। उसे गुरुवार को न्यायालय द्वारा उसे बाल संप्रेषण गृह भिजवाया गया है। जिस समय चोरी की वारदात की थी उस समय आरोपी नाबालिग था लेकिन अब 6 नवम्बर को उसकी आयु 18 साल पूर्ण होने से बालिग हो गया है। पुलिस अधीक्षक अनिल कयाल ने बताया कि डेरिया निवासी अनोपसिंह पुत्र रेंवतसिंह राजपूत ने रिपोर्ट दर्ज कराई कि 23 सितंबर को रात करीब 12 बजे अपने घर के सभी दरवाजे बंद कर सोने चले गए। सवेरे करीब 5 बजे जब वह उठा तो देखा कि घर के आगे का मैन दरवाजा खुला पड़ा था। गोदरेज की अलमारी खुली पड़ी थी। रोशनदान टूटा था।

अलमारी में ट्यूबवेल खुदवाने के लिए रखे हुए 2 लाख 15 हजार रुपए नहीं मिले। करीब 10 तोला व 5 तोला चांदी के गहने भी गायब थे। इसके बाद पुलिस ने अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सुनील के. पंवार के सुपरविजन में शेरगढ़ के थाना अधिकारी देवेन्द्रसिंह के नेतृत्व में अलग-अलग टीमों का गठन किया।

विभिन्न गावों से साक्ष्य एकत्रित किए गए तथा आस-पास के थानों के चोरों/नकबजनी का डाटाबेस तैयार किया। संदिग्ध गतिविधियों वाले व्यक्तियों पर निगरानी रखी गई। देचू थाना क्षेत्र के खियासरिया निवासी एक विधि से संघर्षरत बालक को पुलिस संरक्षण में लेकर पूछताछ की गई उसने अपने 5 बालिग साथियों के साथ मिल कर उक्त घटना करना स्वीकार किया। करीब एक दर्जन चोरी व नकबजनी की घटना करना बताया। उसके 5 साथी अभी जेल में है।

आरोपी युवक ने पुलिस को भी नहीं छोड़ा
आरोपी युवक ने अपने साथियों के साथ मिलकर जनवरी 2021 में पुलिस थाना पचपदरा के कस्बा चौकी में रखे मालखाना में पीछे से कमरे की खिड़की तोड़कर अंदर घुस कर करीब 7-8 बार 10 क्विंटल डोडा पोस्त चुरा लिए थे।
घटना करने से पहले चोरी की तैयारी ऑनलाइनचोरी व नकबजनी घटना करने से पहले सरगना व्हाट्सएप ग्रुप बनाकर उसमें अपने सभी सहयोगियों को जोड़ कर घटना करने के बारे में गांव, स्थान, घटना करने का समय आदि विस्तृत जानकारी व चर्चा करते थे। रात्रि के समय बोलेरो कैंपर में सवार होकर घरों के अंदर घुस कर चोरी को अंजाम देते थे। वारदातों का खुलासा करने में शेरगढ़ के थाना अधिकारी देवेन्द्रसिंह, सहायक उपनिरीक्षक पन्नाराम, सुरजाराम की महत्वपूर्ण भूमिका रही। उन्हें पुरस्कृत किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...