• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • Told The Collector In The Meeting Dengue Under Control, While 39 Patients In 1 Day, Infection Rate 25%, Expert Said Disease Is On The Rise

मौसमी बीमारियों की बैठक में झूठ का डंक:कलेक्टर को मीटिंग में बताया- डेंगू काबू में, जबकि 1 दिन में 39 रोगी, संक्रमण दर 25%, विशेषज्ञ बाेले- बीमारी उफान पर

जोधपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कलेक्टर इंद्रजीत सिंह ने गुरुवार को डेंगू प्रभावित क्षेत्रों में दौरा किया। - Dainik Bhaskar
कलेक्टर इंद्रजीत सिंह ने गुरुवार को डेंगू प्रभावित क्षेत्रों में दौरा किया।

शहर में फैलते डेंगू के बीच कलेक्टर इंद्रजीत सिंह ने गुरुवार को डेंगू प्रभावित क्षेत्रों में दौरा किया। उन्होंने मौसमी बीमारियों के संबंध में बैठक ली। कलेक्टर ने अपने कक्ष में चिकित्सा शिक्षा और चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से डेंगू की वस्तुस्थिति के बारे में जानकारी ली।

कलेक्टर ने दोपहर बाद मेडिकल कॉलेज प्राचार्य डॉ. एसएस राठौड़, एमडीएम अधीक्षक डॉ. एमके आसेरी व माइक्रोबायोलॉजी विभागाध्यक्ष डॉ. स्मिता कुलश्रेष्ठ के साथ बैठक की। प्राचार्य डाॅ. एसएस राठौड़ ने बताया कि डेंगू की स्थिति नियंत्रण में है। उन्होंने बताया कि तीनों अस्पतालों से 640 सैंपल मेडिकल काॅलेज लैब में भेजे गए हैं। मलेरिया व चिकनगुनिया भी नहीं हैं। कोरोना मामलों की स्थिति भी बेहतर है।

दैनिक भास्कर ने जब जांच की तो सामने आया कि बुधवार को एक ही दिन में 39 डेंगू पॉजिटिव मिले। पिछले तीन दिन (12-14 अक्टूबर) में ही 68 डेंगू मरीज मिल चुके हैं। एलाइजा टेस्ट में अब तक कुल 129 पॉजिटिव मरीज मिल चुके हैं। गंभीर बात यह है कि अक्टूबर के 14 दिन में केवल 4 दिन ही एलाइजा टेस्ट लगाए गए हैं।

इसमें 91 डेंगू पाॅजिटिव मरीज मिले हैं। यदि रोज डेंगू के एलाइजा टेस्ट लगाए जाएं तो संक्रमित मरीजों की संख्या और बढ़कर सामने आएगी। 14 दिन में तीनों बड़े अस्पताल से करीब 5886 डेंगू पॉजिटिव मरीजों के सैंपल एलाइजा जांच के लिए मेडिकल कॉलेज की माइक्रोबायोलॉजी लैब में भेजे जा चुके हैं। इनमें से 370 सैंपल की ही जांच हुई। इनमें से भी 91 डेंगू संक्रमित मिले, यानी पॉजिटिविटी दर 24.59 प्रतिशत है।

हॉस्पिटल के हालात- हर 3 बीमार में से एक डेंगू रोगी

हॉस्पिटलों की हकीकत जानने को भास्कर ने प्रयास किया तो चौंकाने वाले आंकड़े सामने आए। मेडिकल कॉलेज मेडिसिन के सीनियर प्राेफेसर डॉ. नवीन किशोरिया का कहना है कि ओपीडी में आने वाले हर 3 में से एक डेंगू पॉजिटिव मिल रहा है। यदि 50 लोग अस्पताल में भर्ती हैं तो 25 मरीज बाहर घरों पर अपना इलाज ले रहे हैं। इन 25 में से अधिकांश तीन दिन बाद अस्पताल में भर्ती होंगे, क्योंंकि अभी वे उस फेज तक नहीं पहुंचे हैं।

भास्कर एक्सपर्ट- स्थिति सामान्य कहना मुश्किल

एम्स के एपिडेमोलॉजिस्ट डॉ. पंकज भारद्वाज का कहना है कि डेंगू की स्थिति अभी सामान्य कहना बहुत मुश्किल है। डेंगू अभी अपने हाईएस्ट लेवल पर पहुंच रहा है। कारण यह है कि वर्तमान में मौसम डेंगू के मच्छरों के प्रजनन के लिए बहुत ही उपयुक्त है। मच्छर भी बढ़ रहे हैं और साथ में मरीज भी। इसलिए बहुत जरूरी है कि सभी डेंगू से सावधान और सुरक्षित रहें। आगे यदि सुरक्षित त्योहार मनाने हैं तो डेंगू, कोरोना जैसी बीमारियों से खुद को और अपने परिजनों को बचाने की ज़रुरत है।

कलेक्टर प्रभावित क्षेत्रों में भी पहुंचे

बैठक में सीएमएचओ डॉ. बलवंत मंडा और जिला परिषद सीओ डॉ. इंद्रजीत सिंह व नगर निगम आयुक्त अरुण पुरोहित भी मौजूद रहे। बैठक में सीएमएचओ ने बताया कि मदेरणा काॅलोनी क्षेत्र में डाॅ. प्रेमसिंह शेखावत, जोन सहायक हेमाराम, एएनएम अनीता व सरला की टीम वहां क्षेत्र में लोगों को जागरूक करने के साथ ही जांच कर रहे हैं। घरों में, कबाड़ में कूलर, ड्रम, परिंडे, फ्रिज के पीछे, गमलों में पानी इकठ्ठा नहीं होने देने की सलाह दे रहे हैं। कलेक्टर ने क्षेत्रवासियों से बातचीत भी की और कहा कि लोग जागरूक रहें व बीमारी के लक्षण होने पर तुरंत अस्पतालों में जाकर जांच कराएं। कलेक्टर ने नगर निगम और सीएमएचओ को डेंगू प्रभावित क्षेत्र में समन्वय कर रोकथाम के प्रयास जैसे फोगिंग करने को कहा।

खबरें और भी हैं...