हाईवे पर ट्रक ने तीन जैन संतों को रौंदा:संतों को कुचलते हुए निकला ट्रक ड्राइवर, दो की मौत

जोधपुर6 महीने पहले
इस हादसे में संत चरण तिलक विजय महाराज का मौके पर ही निधन हो गया, जबकि संत चैतन्य तिलक महाराज की अस्पताल में मौत हो गई। वहीं संत सारस्वत तिलक महाराज घायल हो गए। 

जोधपुर-पाली हाईवे पर शनिवार सुबह एक ट्रक ने तीन संतों को कुचल दिया। इस हादसे में दो संतों की मौत हो गई। एक संत ने मौके पर ही दम तोड़ दिया था, जबकि दो संतों को एम्स हॉस्पिटल ले जाया गया, वहां एक संत की इलाज के दौरान मौत हो गई। इधर, संतों के निधन के बाद बड़ी संख्या में जैन समाज के लोग हॉस्पिटल के बाहर जुटे।

मामला जोधपुर के कुड़ी भगतासनी थाना क्षेत्र के मोगड़ा गांव का है। पुलिस के अनुसार जैन संत चरण तिलक विजय महाराज, संत चैतन्य तिलक महाराज व संत सारस्वत तिलक महाराज पाली से जोधपुर की तरफ आ रहे थे। शुक्रवार रात को जैन संत मोगड़ा स्थित एक फैक्ट्री में रुके थे। शनिवार को जोधपुर विहार करने निकले ही थे कि मोगड़ा रोड पर ही पीछे से आ रहे एक ट्रक ने एक के बाद एक तीनों को टक्कर मारी। टक्कर के बाद भी ड्राइवर रुका नहीं और तीनों को कुचलते हुए वहां से फरार हो गया। इस हादसे में संत चरण तिलक विजय महाराज का मौके पर ही निधन हो गया, जबकि संत चैतन्य तिलक महाराज की अस्पताल में मौत हो गई। वहीं संत सारस्वत तिलक महाराज घायल हो गए।

पार्थिव देह समाज को सौंप दी गई। अंतिम दर्शन के लिए समाज के लोग भी पहुंच रहे हैं। एहतियात के तौर पर पुलिस जाब्ता तैनात किया गया है।
पार्थिव देह समाज को सौंप दी गई। अंतिम दर्शन के लिए समाज के लोग भी पहुंच रहे हैं। एहतियात के तौर पर पुलिस जाब्ता तैनात किया गया है।

पार्थिव देह समाज को सौंपी, शाम को निकलेगी अंतिम प्रयाण यात्रा
हादसे की जानकारी मिलते ही जैन समाज के लोग बड़ी संख्या में एम्स पहुंच गए। भैरुबाग जैन श्वेताम्बर तीर्थ के पदाधिकारियों व जैन समाज के लोगों के आग्रह पर दोनों संतों की पार्थिव देह को पोस्टमार्टम किए बगैर सौंप दिया गया। दोनों की पार्थिव देह को भैरुबाग स्थित मंदिर परिसर में ले जाया गया है। शाम साढ़े चार बजे अंतिम प्रयाण यात्रा निकलेगी।

इधर, इस हादसे के बाद सीएम ने भी ट्वीट करते हुए लिखा कि जोधपुर में कुड़ी भगतासनी क्षेत्र में हुई दुर्घटना में जैन साधु महाराज श्री चैतन्य तिलक जी एवं महाराज श्री चरण तिलक जी के निधन का समाचार अत्यंत दुखद है। इस कठिन समय में मेरी गहरी संवेदनाएं जैन समुदाय के साथ हैं। परमपिता परमेश्वर से प्रार्थना है कि उन्हें यह आघात सहने की शक्ति प्रदान करें। दुर्घटना में घायल हुए महाराज श्री तिलक जी के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना करता हूं।