• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • Vice President Taught Politics Lesson, In Conversation With IIT Students, Cast, Community, Case And Criminality Replaced Character, Caliber, Capacity And Contact In Politics

कपड़ों की तरह पार्टी बदलना सही नहीं:उपराष्ट्रपति ने पढ़ाया राजनीति का पाठ, IIT छात्रों से संवाद में बोले- करैक्टर, कैलिबर, कैपेसिटी और कांटेक्ट की जगह राजनीति में कास्ट, कम्युनिटी, केस और क्रिमिनलिटी ने ले ली

जोधपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आईआईटी स्टूडेंट्स से संवाद करते उपराष्ट्रपति वैकेया नायडू। - Dainik Bhaskar
आईआईटी स्टूडेंट्स से संवाद करते उपराष्ट्रपति वैकेया नायडू।

उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने IIT स्टूडेंट से संवाद के समय राजनीति का पाठ पढ़ाया। उन्होंने कहा कि राजनीति में आने से पहले लोगों को शिक्षित होना चाहिए। उसके बाद सोशल सर्विस करनी चाहिए। उन्होंने युवाओं को राजनीति में आने के लिए आमंत्रित किया। उन्होंने कहा कि वर्तमान में क्या हो रहा है, राजनीति का स्तर कहां जा रहा है, हमने संसद और विधानसभाओं में देखा है। क्या स्थिति है, मैं इसका वर्णन नहीं करना चाहता हूं, लेकिन युवाओं को राजनीति में आना चाहिए, भले ही वह कोई भी पार्टी को ज्वाइन करें।

उन्होंने कहा कि आजकल करैक्टर, कैलिबर, कैपेसिटी और कांटेक्ट की जगह राजनीति में कास्ट, कम्युनिटी, केस और क्रिमिनलिटी ने ले ली। उन्होने पार्टी बदलने को लेकर कहा कि जैसे बच्चे कपड़े बदलते हैं वैसे ही वर्तमान समय में राजनेता बहुत तेजी से पार्टियां बदल रहे हैं।्पार्टी बदलना बुरी बात नहीं है, यह विचारधारा में बदलाव की वजह से होता है, लेकिन जो लोग सत्ता में आने के लिए पार्टियां बदलते हैं, यह ठीक नहीं है।

उपराष्ट्रपति ने कहा कि भारतीय फिलोसॉफी में शेयर एंड केयर काम करता है. इसलिए राजनीति में आने से पहले लोगों को शिक्षित होना चाहिए और इसके बाद सोशल सर्विस करनी चाहिए. इसके बाद राजनीति में आना चाहिए. इसके लिए भी विचारधारा आवश्यक है. क्योंकि विचारधारा से ही प्रोग्राम निर्धारित होते हैं और हमारी वैल्यू तय होती है।

राजनीति में आने के लिए चार 'C' जरूरी

उपराष्ट्रपति ने देश में गिरते राजनीतिक मूल्यों पर कड़ा प्रहार करते हुए कहा कि कहा कि राजनीति में आने के लिए किसी में अंग्रेजी के चार C होने चाहिएं, करैक्टर, कैलिबर, कैपेसिटी और कांटेक्ट। जिसके पास ये चारों गुण होते हैं उसे राजनीति में आना चाहिए। लेकिन कुछ लोगों ने इन्हें बदल दिया है, बदल कर इन्हें कास्ट, कम्युनिटी, केस और क्रिमिनलिटी कर दिया है। उन्होंने कहा कि कास्ट-कम्युनिटी नहीं होनी चाहिए. राजनीति में सबसे पहले देश होना चाहिए. उन्होंने राजनीति में बढ़ते जातिवाद पर भी चिंता प्रकट की उन्होंने कहा कि सभी तरह के वैल्यूज के साथ युवाओं को राजनीति में आना चाहिए और इस तरह के युवा राजनीति को बदलेंगे तो देश में बदलाव आएगा।

IIT स्टूडेंट।
IIT स्टूडेंट।

.नई शिक्षा नीति पर किए सवाल

आईटी की स्टूडेंट माधुरी ने उपराष्ट्रपति से पूछा कि देश में नई शिक्षा नीति लागू हुई है, उसे आप किस नजर से देखते हैं। इस पर उपराष्ट्रपति ने कहा कि नई शिक्षा नीति में सभी पहलुओं का ध्यान रखा गया है। खासतौर से हम अपनी सांस्कृतिक विरासत से जुड़े रहें, हमारी विचारधारा बनी रहे और रोजगार मिले। उन्होंने कहा कि हमारी संस्कृति बहुत अद्भुत है, हमारे विद्वानों ने जो चीजें दुनिया को दी हैं, अगर हम उनका सही अध्ययन करें, तो बहुत कुछ कर सकते हैं।

शरीर की तंदुरूस्ती के लिए योग की दी सलाह

एक छात्रा ने पूछा कि महामारी के दौरान कई चीजों की कमी सामने आई है, अब रिसर्च को बढ़ावा देने के लिए क्या होना चाहिए. उपराष्ट्रपति ने जवाब में कहा कि महामारी का दौर है, रिसर्च भी हो रही हैं, सभी पर काम किया जा रहा है. हमारी प्राथमिकता स्वस्थ रहने की है, हम अपने शरीर को कैसे तंदुरुस्त रख सकते हैं, इसके लिए प्रतिदिन योग करें।

पिज्जा बर्गर छोड़ कर साउथ व नॉर्थ इंडियन फूड खाने को कहा

उप राष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने कहा कि फास्ट फूड का चलन मार्केटिंग की वजह से बढ़ा है, पिज़्ज़ा बर्गर और भी कई चीजें मार्केटिंग के प्रभाव में चल रहे हैं। हमें हमारे साउथ इंडियन, नॉर्थ इंडियन और हमारे पुरातन व्यंजन अपनाने चाहिए. उन्होंने इस दौरान जोधपुर की प्याज की कचौरी का भी जिक्र किया।

खबरें और भी हैं...