पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

साइबर ठगी:डॉक्टर के खाते से शातिर ने उड़ाए 35 हजार, पुलिस की तत्परता से वापस खाते में जमा

जोधपुर19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

आयुर्वेद अस्पताल के चिकित्सा अधिकारी डॉ. राजेंद्र के खाते से 24 मई को शातिर ने 35 हजार रुपए निकाल लिए, पुलिस ने तत्परता दिखा राशि को होल्ड करवा उनके खाते में जमा करवा दिए। खांडा फलसा थानाधिकारी दिनेश लखावत ने बताया कि क्षेत्र में स्थित आयुर्वेद अस्पताल के चिकित्सा अधिकारी डॉ. राजेंद्र के खाते से गत 24 मई को 35 हजार रुपए किसी शातिर ने निकाल लिए थे। इस पर उन्होंने तत्काल खांडा फलसा थाने और साइबर क्राइम रिपोर्टिंग पोर्टल पर भी ऑनलाइन शिकायत दर्ज कराई।

चूंकि घटना के कुछ देर बाद ही पुलिस को इसकी सूचना मिल गई थी, तो थानाधिकारी लखावत ने थाने के साइबर एक्सपर्ट कांस्टेबल सुरेश विश्नोई को इसकी पड़ताल की जिम्मेदारी सौंपी। विश्नोई ने डॉक्टर के बैंक की शाखा से संपर्क किया, लेकिन बैंक अधिकारी भी खाते से निकली राशि की पूरी जानकारी नहीं दे पाए। इस पर कांस्टेबल विश्नोई ने एक से एक कड़ियां जोड़ी तब सामने आया कि डॉक्टर के खाते से निकली राशि को शातिरों ने एक से दूसरे और फिर तीसरे खाते में ट्रांसफर कर लिया था। उस तीसरे अकाउंट से राशि को बदमाश निकाल पाते, उससे पहले पुलिस ने उस पेमेंट गेट-वे के नोडल अधिकारी से संपर्क किया और फ्रॉड की रकम को होल्ड करवा दिया। फिर पुलिस की तरफ से औपचारिकताएं पूरी होने पर संबंधित बैंक ने डॉक्टर के खाते से निकले 35 हजार रुपए वापस खाते में जमा कर दिए।

फ्रॉड के बाद जितनी जल्दी कार्रवाई रिफंड की गुंजाइश उतनी ज्यादा
थानाधिकारी लखावत ने बताया कि किसी भी व्यक्ति के साथ साइबर फ्रॉड की वारदात होती है और उनके खाते से या क्रेडिट कार्ड से ट्रांजेक्शन होते हैं, उसकी सूचना जितनी जल्दी पुलिस तक पहुंचेगी, उसके रिफंड की गुंजाइश भी उतनी ही ज्यादा रहती है। ऐसे मामलों में आमजन से अपील है कि वे तत्काल पुलिस व बैंक को सूचना देने के साथ ही साइबर क्राइम रिपोर्टिंग पोर्टल https://cybercrime.gov.in पर ऑनलाइन या 155260 पर शिकायत दर्ज कराएं।

खबरें और भी हैं...