आक्रोश / प्रदेश में महिला अपराधों ने झकझोरा यहां नारी सुरक्षित नहीं: शेखावत

Women's crimes are not safe here in the state: Shekhawat
X
Women's crimes are not safe here in the state: Shekhawat

  • केंद्रीय मंत्री ने टाेंक में नाबालिग से सामूहिक दुष्कर्म की घटना पर जताया आक्रोश

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 07:14 AM IST

जोधपुर. केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्रसिंह शेखावत ने कहा कि प्रदेश में सामने आई एक और अपहरण व  बलात्कार जैसी घृणित घटना ने झकझाेर कर रख दिया है। टोंक जिले में 15 वर्षीय नाबालिग का अपहरण और 6 युवकों द्वारा सामूहिक दुष्कर्म राज्य की भयावह स्थिति को बयान कर रहा है।

शेखावत ने टोंक जिले की इस घटना पर आक्रोश व्यक्त कर अपने ट्वीट में कहा कि हर दिन बीतने के साथ मुख्यमंत्री अशोक गहलोत प्रदेश की जनता का विश्वास खो रहे हैं, लेकिन अफसोस कि मुख्यमंत्री का ऐसी घटनाओं से कोई लेना-देना नहीं है।

वे अपने हाईकमान के अनैतिक वक्तव्यों को बढ़ावा देने, प्रदेश में अपने ही विधायकों के साथ राजनीति करने, भूमाफिया द्वारा अपने ही मंत्रियों पर होते हमलों को अनदेखा करने व बाड़ेबंदी और परिवारवाद जैसे अनेकों नए कीर्तिमान स्थापित करने में व्यस्त हैं। गहलोत सरकार का शासन राज्य की कानून व्यवस्था और विशेषकर महिला सुरक्षा के लिए काला धब्बा साबित हो रहा है।

कुवैत-किर्गिस्तान में फंसे 295 प्रवासी राजस्थानी शेखावत के प्रयासों से घर लौटे

जोधपुर/नई दिल्ली| केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्रसिंह शेखावत के प्रयासों से राजस्थान के 295 से ज्यादा प्रवासी अपने घर लौटे। ये सभी कुवैत और किर्गिस्तान में फंसे हुए थे। भाजपा के संभाग मीडिया प्रमुख अचलसिंह मेड़तिया ने बताया कि कोरोना महामारी के बाद से विदेश में फंसे राजस्थानी प्रवासियों को यहां लाने के प्रयास किए जा रहे हैं। शेखावत इसके लिए निरंतर प्रयास कर रहे हैं।

गत दो-तीन दिन में ही अनेक प्रवासी पहुंचे हैं। इनमें से ज्यादातर कामगार व छात्र हैं। कुवैत से आने वाले कामगारों में अजमेर के 2, बांसवाड़ा के 41, बाड़मेर के 2, बीकानेर का एक, चूरू के 11, धौलपुर का एक, डूंगरपुर के 55, हनुमानगढ़ के 5, जयपुर के 6, झुंझुनूं के 14, कोटा के दो, नागौर के 5, प्रतापगढ़ के 6, राजसमंद का एक, सीकर के 27 और उदयपुर के 16 कामगार शामिल हैं। कुवैत से स्वदेश लौटे राजस्थान के सैम कलाल ने ट्वीट कर शेखावत का आभार जताया। 
किर्गिस्तान से आए 100 विद्यार्थी
किर्गिस्तान में 100 छात्र-छात्राओं के विदेश में फंसे होने की जानकारी मिली तो केंद्रीय मंत्री उनकी मदद को आगे आए। किर्गिस्तान में भारतीय राजदूत आलोक अमिताभ डिमरी से सीधी बात की। डिमरी ने आश्वासन दिया कि उन्होंने कई फ्लाइट राजस्थान के छात्रों को भारत भेजने के लिए लगाई हैं। बहुत जल्दी सारे छात्र अपने घर पहुंच जाएंगे।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना