अस्पताल में हंगामा:इलाज के दौरान युवक की मौत, डॉक्टर पर गलत इंजेक्शन लगाने का आरोप

जोधपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पीपाड़ शहर. अस्पताल में युवक की मौत के बाद परिवार के लोगों ने किया हंगामा। - Dainik Bhaskar
पीपाड़ शहर. अस्पताल में युवक की मौत के बाद परिवार के लोगों ने किया हंगामा।
  • डॉक्टर ने कहा- कार्डियक अरेस्ट से हुई मौत, परिवार पर टूटा दुखों का पहाड़, घर का इकलौता चिराग बुझा

कस्बे के जिला अस्पताल में गुरुवार को एक नवयुवक की मौत के बाद परिवार जनों ने हंगामा करते हुए डॉक्टरों पर इलाज के दौरान लापरवाही बरतने एवं गलत इंजेक्शन से युवक की मौत होने का आरोप लगाया। प्राप्त जानकारी के अनुसार उचियाड़ा बेरा निवासी युवक संग्राम कच्छावाह को उल्टी और चक्कर आने पर उसे जिला अस्पताल ले जाया गया।

जहां इमरजेंसी में यूवक को भर्ती कर डॉ जेपी सोनगरा द्वारा इलाज शुरू किया गया। मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए युवक को इमरजेंसी से सामान्य वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया। वहां शुरुआती मेडिसन पूरा होने के पश्चात परिजनों द्वारा वापस दोबारा डॉ जेपी सोनगरा से संपर्क किया गया और बताया कि उसके सीने में हल्का सा दर्द है। इस पर डॉक्टर ने मरीज की ईसीजी करवाने को कहा। जैसे ही परिवार जन उसको ईसीजी के लिए लेकर गए उसी दौरान युवक ने दम तोड़ दिया।

इमरजेंसी में आधे घंटे बाद शुरू हुआ इलाज
मरीज के साथ आए जीतू सैनी ने बताया कि मरीज संग्राम को इमरजेंसी में आधे घंटे तक लेटा रखा तब तक कोई भी डॉक्टर या नर्सिंग स्टाफ उसके इलाज के लिए तैयार नहीं हुआ। इमरजेंसी में कार्यरत नर्सिंग स्टाफ से बार बार निवेदन करने के पश्चात डॉ जेपी सोनगरा ने आकर उसका चेकअप करके शुरुआती मेडिसन शुरू किया गया।

परिजनों का आरोप : मरीज की मृत्यु के पश्चात पर्ची बदलने का आरोप

परिजनों ने आरोप लगाते हुए बताया कि जैसे ही मरीज संग्राम की मौत हुई उसके पश्चात डॉक्टर जेपी सोनगरा द्वारा पूर्व में इलाज हेतु जो पर्ची बनाई गई थी। उसको बदलकर नई पर्ची बनाकर उस पर अलग से मेडिसन लिख कर परिजनों को दे दी। परिजनों ने बताया कि इंजेक्शन दिया उसके पश्चात उसके सीने में दर्द शुरू हुआ।

पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष महेंद्रसिंह कच्छावाह, सम्पत राज सैनी सहित कई लोग अस्पताल पहुंचे और डॉक्टर पर लापरवाही का आरोप लगाया। प्रभारी डॉक्टर प्रहलाद सिंह बाहरठ ने लोगों को संपूर्ण घटनाक्रम से अवगत करवाया और डॉक्टर द्वारा जो भी इलाज किया गया उसके बारे में बताया एवं परिवारजनों को दोनों पर्चियां भी सुपुर्द कर दी गई।

मामला आगे तूल नहीं पकड़े इसको लेकर इंसिडेंट कमांडर उपजिला मजिस्ट्रेट शैतानसिंह राजपुरोहित, तहसीलदार वीरेंद्रसिंह शेखावत, नगर पालिका अधिशाषी अधिकारी सुरेशचंद शर्मा भी अस्पताल पहुंचे और परिवार जनों को समझाया तो परिजन लाश उठाने के लिए तैयार हो गए।

परिजनों ने उप जिला मजिस्ट्रेट को एक ज्ञापन सौंपा। वहीं डॉ जयप्रकाश सोनगरा ने बताया कि सडन कोलैप्स था। मरीज को अचानक कार्डियक अटैक आने से मौत हुई है। मुख्य पर्ची मिल नहीं रही थी इसलिए दूसरी पर्ची रेकॉर्ड में रखने के लिए बनाई गई।

खबरें और भी हैं...