जनप्रतिनिधियों की बैठक:सिंचाई आधारित परियोजना बनाते हुए केंद्र व राज्य मिलकर काम करें

करौलीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सवाई माधोपुर पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना ईआरसीपी को सिंचाई आधारित परियोजना बनाते हुए केंद्र एवं राज्य मिलकर काम करें। बहरावंडा कला में 9 ग्राम पंचायतों के जनप्रतिनिधियों की बैठक में किसान महापंचायत के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामपाल जाट ने बैठक के दौरान यह बात कही। उन्होंने कहा कि किसानों की हित की यह योजना अभी तक पेयजल आधारित बनाई हुई है, जबकि पेयजल के लिए केंद्र द्वारा जल जीवन मिशन योजना के अंतर्गत प्रत्येक गांव में नल से जल योजना 15 अगस्त, 2019 से चालू है। इसमें अब तक 1402 करोड़ की राशि आवंटित की जा चुकी है।
गिरते जलस्तर के लिए सिंचाई योजना जरूरी
सिंचाई योजनाओं से पेयजल योजना संचालित करना संभव है किंतु पेयजल योजना से सिंचाई संभव नहीं हो सकती व गिरते भूमिगत जलस्तर के लिए भी सिंचाई योजना ही कारगर है। इस कारण 13 जिलों के क्षेत्र में प्रस्तावित सिंचाई योजनाओं को इसमें सम्मिलित किया जाकर इसे सिंचाई प्रधान परियोजना बनाई जाए। इससे पिपलेट, पीपल्दा, ओलवाड़ा, इंदिरा व गलवा जैसी सभी योजनाओं की भूमि सिंचित हो सकेगी।
आगामी रणनीति बनाने हेतु पंचायत समिति सदस्य मोहनलाल जाट तथा पूर्व सरपंच कैलाश चौधरी को संयोजक नियुक्त किया गया तथा कार्यकारिणी में पूर्व सरपंच जयनारायण बैरवा कुरेडी, रामलाल गुर्जर बिचपुरी, परशुराम जाट खिदरपुर, बद्रीलाल जाट गोकुलपुर एवं बनवारी जाट किशनगढ़ छाहरा, भीम सिंह मीणा बहरावंडा कलां, घनश्याम जाट बहरावंडा कलां, रामस्वरूप जाट सेवानिवृत्त प्रधानाध्यापक, ओमप्रकाश जाट सेवानिवृत्त व्याख्याता, गिर्राज जाट सेवानिवृत्त प्रधानाध्यापक बहरावंडा कला को शामिल किया गया। आगामी सभा की व्यवस्था हेतु मोहनलाल जाट सेवानिवृत्त वरिष्ठ अध्यापक को प्रभारी नियुक्त किया गया।मीडिया प्रभारी रामजी लाल जाट भूलनपुर तथा लक्ष्मी नारायण जाट बहरावंडा कलां को बनाया गया।

खबरें और भी हैं...