कांस्टेबल परीक्षा का असर:20 बसों के भरोसे आम यात्री, घंटों करना पड़ा इंतजार

करौली13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
हिंडौन सिटी। बस स्टैंड पर बसों का इंतजार करते हुए यात्री - Dainik Bhaskar
हिंडौन सिटी। बस स्टैंड पर बसों का इंतजार करते हुए यात्री
  • 66 में से 45 बसें परीक्षा अभ्यर्थियों के लिए लगाई
  • लोकल रुटों पर बसों के परिचक्र कम करने से लोगों को डग्गेमार वाहनों में करना पड़ा सफर

13 मई से शुरु होकर 16 मई तक आयोजित हो रही पुलिस कांस्टेबल परीक्षा के कारण रोडवेज बसों का संचालन गड़बड़ाया हुआ है। हिंडौन रोडवेज आगार में संचालित 66 रोडवेज बसों में से करीब 45 बसों को परीक्षा अभ्यर्थियों के लगा दिए जाने के कारण केवल 20 बसों का संचालन लोकल रुटों पर किया जा रहा है। ऐसे में लोकल रुटों पर बसों के परिचक्र कम करने से शनिवार को यात्रियों को बस स्टैंड पर घंटों इंतजार करना पड़ा। हिंडौन से गंगापुर सिटी, टोड़ाभीम, बयाना, भरतपुर, करौली, धौलपुर सहित आसपास क्षेत्रों में बस नहीं मिलने पर यात्रियों को डग्गेमार वाहनों में सफर करने की मजबूरी रही।

हिंडौन रोडवेज आगार के मुख्य प्रबंधक गजानंद जांगिड़ ने बताया कि करौली जिले में जालौर, भरतपुर, जयपुर व सवाईमाधोपुर से 3200 परीक्षार्थियों का परीक्षा केन्द्र दिया गया है। जबकि करौली जिले के 5500 परीक्षार्थियों का जयपुर, सवाईमाधोपुर परीक्षा केन्द्र दिया गया। गुरुवार सुबह से नि:शुल्क बसों का संचालन शुरू कर दिया गया। अभ्यर्थियों की आवाजाही को देखते हुए 24 घंटे पूछताछ केंद्र शुरू किया हुआ है। हिंडौन व करौली से 30 बसें जयपुर के लिए, हिंडौन से भरतपुर के लिए 10 बसें व गंगापुर सिटी के लिए 4 बसें परीक्षार्थियों के लिए संचालित की हुई है। जबकि 10 बसों काे रिजर्व रखा गया है। रोडवेज आगार में 66 बसों का संचालन प्रतिदिन विभिन्न रुटों पर किया जाता है। परीक्षार्थियों के लिए करीब 45 बसों को लगा दिए जाने के कारण अन्य रुटों पर कटौती करते हुए 20 बसों का संचालन किया जा रहा है। मुख्य प्रबंधक जांगिड़ का कहना रहा कि परीक्षा को देखते हुए लोग जरूरत होने पर ही सफर तय करें। उनका कहना रहा कि आम यात्रियों के लिए भी सभी रुटों पर बसों का संचालन किया जा रहा है, केवल परिचक्र कम कर दिए गए हैं।

खबरें और भी हैं...