• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Karauli
  • Deadly Negligence...Adequate Nursing Personnel, Yet Ward Boys Are Injecting Patients Against The Rules And Checking Samples Of Canula (drip), Helper

भास्कर ग्राउंड रिपोर्ट:जानलेवा लापरवाही...पर्याप्त नर्सिंगकर्मी फिर भी मरीजों को नियम विरुद्ध वार्ड बॉय लगा रहे इंजेक्शन और केनूला (ड्रिप), हेल्पर कर रहे सैंपलों की जांच

करौली2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • मौसमी बीमारियों से जिला अस्पताल के वार्ड फुल, नर्सिंगकर्मियों ने अपनी जिम्मेदारी वार्ड बॉय पर डाली, जिम्मेदार बोले- मामले की जांच कराएंगे

उमेश शर्मा/विवेक चतुर्वेदी | करौली इन दिनों मौसमी बीमारियों के चलते हालत खराब है। जिला अस्पताल में आउटडोर में जहां 800 से 900 मरीज प्रतिदिन उपचार लेने आते थे वह आंकड़ा अब 1500 से 1600 तक पहुंच गया है तो वहीं भर्ती मरीजों की संख्या जहां प्रतिदिन 150 से 180 रहती थी वह अब 300 तक पहुंच गई है। जिसके कारण जिला अस्पताल के वार्ड फुल चल रहे हैं।

हालांकि अस्पताल प्रशासन ने मरीजों को राहत देने के उद्देश्य से दोनों भवनों में 300 से 400 के बीच में बेड लगा रखे हैं लेकिन वे भी इन दिनों फुल हैं। इनमें सर्वाधिक खराब स्थिति एमसीएच विंग के शिशु वार्ड में है। जहां 30 बेड़ों पर रोजाना 55 से 60 बच्चे भर्ती होते हैं। इससे कहीं एक बेड पर 2 तो कहीं एक बेड पर 3 बच्चों का उपचार हो रहा है। करौली जिला अस्पताल में हालत यह है कि नर्सिंगकर्मी अपना काम वार्ड बॉय से करवा रहे है और वार्ड बाॅय अपना काम मरीजों के परिजनों पर डाल कर नियमों की धज्जियां उड़ाने में लगे हुए है। जिला अस्पताल के दोनों भवनों में पर्याप्त नर्सिंग स्टाफ होने के बावजूद नर्सिंगकर्मियों की शह पाकर वार्ड बॉय नियम विरुद्ध तरीके से मरीजों को ड्रिप, कैनूला व इंजेक्शन लगा रहे है तो वहीं नर्सिंगकर्मी कही कुर्सी पर बैठकर कागजी खानापूर्ति में व्यस्त है तो कही नर्सिंगकर्मी कही ड्रिप और इंजेक्शन तैयार करके वॉर्ड बॉय से मरीजों को लगवाने भेजने से भी नहीं झिझक रहे है। हद तो तब हो गई जब एमसीएच के बच्चा वार्ड में एक वार्ड बॉय स्वयं छोटे बच्चों को कैनूला लगाकर ड्रिप लगा रहा था और बार-बार बच्चे के साथ से कैनूला आउट हो रहा था। वहीं वार्ड का एक नर्सिंगकर्मी चिकित्सक के साथ राउंड करवा रहा था और दूसरा नर्सिंगकर्मी रजिस्ट्रर में मरीजों की पर्ची की एंट्री कर रहा था।

केस 1. नर्सिंगकर्मी स्टाफ रूम में पर्चियों की कर रहे एंट्री, वार्ड बॉय मासूम को लगा रहा केनूला

​​​​​​​जिला अस्पताल के करौली-मंडरायल स्थित एमसीएच बिंग के शिशु वार्ड में नर्सिंगकर्मी स्टाफ रुम में भर्ती पर्चियों की एंट्री कर रहा था। वार्ड में एक बच्चे की रोने की आवाज आई तो देखा कि किसी बच्चे के कैनूला लगाकर ड्रिप लगाई जा रही थी। वार्ड बॉय छोटे से बच्चें को कैनूला लगाकर ड्रिप लगा रहा था। वह दो बार कैनूला बच्चे को नहीं लगा सका।

केस 2. ट्रोमा वार्ड में नर्सिंगकर्मी ने ड्रिप तैयार कर घायलों को लगाने के लिए वार्ड बॉय को थमाई

जिला अस्पताल के पुराने भवन के ट्रोमा वार्ड में घायल भर्ती थे। घायलों को पट्टी करने के बाद नर्सिंगकर्मी ड्रिप लगाने और ड्रिप में संबंधित इंजेक्शन तैयार कर रहे थे। वार्ड में नियुक्त हेल्पर तैयार ड्रिप को ले जाता और मरीजों को ड्रिप लगाकर वापस आ जाता और दूसरी तैयार ड्रिप ले जाता ओर मरीज को लगा आता।

केस 3. लैब में स्टाफ की कमी से हेल्पर ले रहे मरीजों के सैंपल, कर रहे जांच...यह गलत है

करौली के जिला अस्पताल की लैब में पहले कंपनी की ओर से अस्थाई लैब टेक्नीशियन की नियुक्ति कर रखी थी। लेकिन इनको मार्च 2022 में हटा दिया गया। लैब में स्टाफ की कमी होने के कारण हेल्पर मरीजों के सैम्पल लेते और सैम्पल की जांच करते नजर आए। जो कि नियमानुसार गलत है।

खबरें और भी हैं...