नौतपा से पहले तपा करौली:करौली प्रदेश का सबसे गर्म शहर, पारा 47.1 डिग्री

करौलीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

शनिवार को करौली प्रदेश का सबसे गर्म शहर रहा है। मौसम विज्ञान केन्द्र जयपुर की ओर से जारी 34 शहरों के तापमान आंकड़ों में करौली अधिकतम तापमान 47.1 डिग्री के साथ पहले नंबर पर रहा है। एक दिन पहले करौली का अधिकतम तापमान 46.5 डिग्री रहा था। नौतपा से पहले करौली जिला तप रहा है। मई के 21 दिन में से 8 दिन तक लोगों को लू का सामना करना पड़ा है। सामान्यत: मई के आखिर में नौैतपा शुरू होने से पहले तापमान बढ़ने पर लू चलती हैं। लेकिन, इस बार मई के शुरू में ही लू जैसे हालात बन गए। नौ तपा 25 मई से शुरू हाेगा।

इससे पहले 8 से 10 मई, 13 मई से 15 मई, 18 से 20 मई तक लू चली थी। इस दौरान औसत तापमान 44 से 46 डिग्री रहा था। इधऱ, भीषण गर्मी की वजह से जिले के बाजारों और सड़कों पर दोपहर में सन्नाटा पसरा रहा। सुबह 7 बजे से ही छतों पर रखी टंकियों का पानी गर्म हो गया। पशु-पक्षी भी गर्मी से परेशानी होने लगे हैं।

4 घंटे बिजली कटौती से लोग हुए परेशान
दिनों दिन बढ़ रहे पारे से लोगों का हाल बेहाल है, दूसरी ओर शनिवार को सुबह 6 बजे से 4 घंटे तक कई स्थानों पर की गई बिजली कटौती ने लोगों को परेशान कर दिया। शहर के मनीराम पार्क चौराहा क्षेत्र, अस्पताल मार्ग, मोहननगर, हजरिया की कोठी, शीतला कॉलोनी, बयाना मार्ग, स्टेशन रोड़ सहित 10 से अधिक क्षेत्रों में सुबह 6 बजे से 10 बजे तक बिजली बंद रहने से लोगों का गर्मी से हाल बेहाल हो गया। बिजली निगम के सहायक अभियंता अरविंद गुप्ता का कहना रहा कि 33 केबी जाट की सराय स्टेशन फीडर के मरम्मत से बिजली कटौती की गई थी।

प्रदेश में बढ़ रही गर्मी, करौली में ज्यादा

प्रदेश में 21 मई को सबसे ज्यादा तापमान करौली जिले का अधिकतम 47.1 डिग्री तथा न्यूनतम 30.2 रहा है। जबकि बीकानेर व चूरू का अधिकतम तापमान 46.4 डिग्री रहा है। अजमेर का 43.6, भीलवाड़ा का 44.4, वनस्थली 46.2, अलवर 45.3, जयपुर 44.6, पिलानी 46.7, सीकर 44, कोटा 45.9 तापमान रहा है।

एक्सपर्ट व्यू: तेजी से हो रहे सोलर रेडिएशन की वजह से धूप में तेजी

उत्तर-पूर्व और पश्चिम से पूरब में चलने वाली धुलभरी, प्रचंड उष्ण व शुष्क हवाएं लू कृषि विज्ञान केन्द्र करौली के मौसम वैज्ञानिक डॉ. एमके नायक ने बताया कि गर्मियों में उत्तर-पूर्व और पश्चिम से पूरब में चलने वाली धुलभरी, प्रचंड उष्ण एवं शुष्क हवाएं लू कहलाती हैं। इस तरह की स्थिति मई के अंत और जून में बनती है। लू के समय अधिकतम तापमान 45 डिग्री तक जा सकता है। इस साल मई में 2 दिन छाेड़कर बाकी दिन औसत 40 डिग्री से ज्यादा ही रहा है। 14 मई काे तो पारा 47.2 डिग्री तक जा चुका है। तेजी से हो रहे सोलर रेडिएशन की वजह से धूप में तीव्रता (तल्खी) 12 प्रतिशत ज्यादा है। पाकिस्तान और गुजरात के हिस्से खूब तप रहे हैं। वहां से आने वाली सूखी गर्म हवाओं की रफ्तार भी इस बार ज्यादा है। हवा में नमी भी बहुत ज्यादा नहीं है।

खबरें और भी हैं...