करौली उपद्रव मामला:करौली उपद्रव मामले में रिहा 8 लोगों का सांसद मनोज राजौरिया ने किया स्वागत

करौली16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

नव संवत्सर बाइक रैली पर पथराव, आगजनी व उपद्रव मामले में लगभग एक माह से न्यायिक अभिरक्षा में चल रहे 8 लोगों को उच्च न्यायालय से जमानत मिलने के बाद शनिवार को करौली जिला जेल से रिहा कर दिया गया। इस दौरान करौली-धौलपुर सांसद डॉ.मनोज राजोरिया, भाजपा जिला अध्यक्ष बृजलाल डिकोलिया, कैलाश हरदैनियां सहित अन्य भाजपा कार्यकर्ताओं ने सभी का माला पहनाकर एवं मिठाई खिलाकर स्वागत किया। सांसद डॉ.मनोज राजोरिया ने कहा कि राजस्थान सरकार तुष्टीकरण की राजनीति कर रही है। जिसके चलते करौली दंगों में निर्दोष लोगों को झूठे मामले में फंसा कर जेल पहुंचा दिया। उन्हें उच्च न्यायालय से जमानत मिलने के बाद रिहाई मिली है, लेकिन वह सभी को न्याय दिलाने के लिए अंत तक लड़ाई लड़ेंगे। वहीं पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष कैलाश हरदैनिया ने भी सांसद की बात पर सहमति जताते हुए कहा कि हम सभी निर्दोष लोगों को जेल से रिहा कराने के बाद ही दम लेंगे।

इस दौरान सुरेश शुक्ला, कैलाश हरदैनियां, रमेश राजौरिया, गोपेश शर्मा, केसर सिंह नरुका, मुकेश सोनू, रिंकू पंडित सहित दर्जनों की संख्या में भाजपाई और परिजन मौजूद थे। गौरतलब है कि 2 अप्रैल को करौली में हुए उपद्रव के मामले में पुलिस ने 29 लोगों को गिरफ्तार किया, जिन्हें न्यायालय ने न्यायिक अभिरक्षा में भेजने के आदेश दिए थे। जबकि दो नाबालिगों को भी निरुद्ध किया था। मामले में पुलिस की ओर से 1 मामले सहित कुल 41 मामले दर्ज हुए हैं। जबकि 144 से अधिक लोगों को पुलिस ने चिन्हित किया है। उच्च न्यायालय के जस्टिस सीके सोनगरा ने 8 आरोपियों को जमानत दी है। जिला जेल से रिहा होने वालों में वीरेंद्र पुत्र शीशराम, रविंद्र पुत्र जोरमल, गजेंद्र पुत्र बलवीर, प्रहलाद पुत्र प्रेम शंकर, पुष्पेंद्र पुत्र कैलाश चंद्र, विपिन पुत्र मुकेश चंद, राजा पुत्र छोटेलाल एवं सोनू उर्फ विकास पुत्र राजेश शामिल हैं। जिन्हें हाई कोर्ट से जमानत मिलने के बाद जिला जेल से रिहा किया गया है। जिला कारागृह से 8 लोगों की जमानत पर रिहाई के दौरान कारागृह के सामने भाजपा कार्यकर्ता व रिहा होने वालों के परिजन एकत्रित हो गए। पुलिस अधीक्षक शैलेन्द्र सिंह इंदौलिया ने मामले की गंभीरता को देखते हुए करौली पुलिस उपाधीक्षक मनराज मीना को सतर्कता के निर्देश दिए। जिस पर सीओ मनराज मीना के नेतृत्व में कोतवाली एसएचओ दिनेश मीना, सदर थानाधिकारी ओमेन्द्र सिंह मय जाप्ते के करौली-मंडरायल रोड पर पुलिस लाईन के पास तैनात रहे। इस दौरान बेरिकेट लगाकर वाहनों को एक-एक कर रवाना किया गया, तो वहीं शिकारगंज के पास महिला थानाधिकारी शैलेन्द्र सिंह डागुर, यातायात प्रभारी अजीत सिंह तैनात रहे और धारा 144 की पालना सुनिश्चित कराई।

खबरें और भी हैं...