भूमि विवाद में हत्या:जमीन विवाद में वृद्ध की हत्या, 7 घंटे बाद पोस्टमार्टम, 18 घंटे बाद अंतेष्टी

करौली13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • परिजन विवादित जमीन पर ही अंत्येष्टि करने पर अड़े, पुलिश की समझाइश पर माने

भूमि विवाद में 74 वर्षीय वृद्ध की हत्या के बाद पहले पोस्टमार्टम कराने को लेकर 7 घंटे की समझाइश चली लेकिन समझाइश होने के बावजूद एक बार फिर शव की अंत्येष्टि विवादित जमीन में करने की परिजनों की मांग को लेकर पुन: परिजन गांव में धरने पर बैठ गए है। दोपहर 3 बजे से पुलिस व प्रशासन के अधिकारी परिजनों से समझाइश करते रहे और देर शाम 7 बजे शव का श्मशान घाट में दाह संस्कार किया जा सका।

कैलादेवी थाना क्षेत्र के बावली गांव निवासी भिकारी बैरवा पुत्र ग्यारसा बैरवा उम्र 74 वर्ष शुक्रवार दोपहर को राजौर गांव में पेंशन की राशि निकालने गए थे। शाम करीब 6 बजे गांव से घर लौटते समय आरोपियों ने राजौर गांव में मारपीट कर दी। जिससे भिकारी बैरवा गंभीर रूप से घायल हो गया। सूचना पर कैलादेवी पुलिस मौके पर पहुंची और घटना की जानकारी ली। परिजनों ने उसे देर रात करौली चिकित्सालय में भर्ती कराया। जहां उपचार के दौरान शनिवार सुबह करीब 2:30 बजे मौत हो गई।

मृतक के पुत्र रामफल बैरवा व परिजनों ने भूमि विवाद को लेकर वृद्ध की हत्या किए जाने का आरोप लगाते हुए पोस्टमार्टम कराने व शव लेने से इनकार कर दिया। जिस पर चिकित्सालय में बड़ी संख्या में पुलिस बल भी तैनात हो गया। परिजनों व ग्रामीणों ने भूमि विवाद के चलते प्रशासन व पुलिस से परिजनों को सुरक्षा, आर्थिक सहायता, भूमि विवाद का निस्तारण और आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग की। सूचना लगते ही करौली थाना अधिकारी दिनेश मीणा, कुड़गांव थाना अधिकारी नीरज शर्मा, जिला चिकित्सालय चौकी प्रभारी महेश शर्मा सहित पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंच गए और परिजनों से समझाइश की।

सूचना पर कलेक्टर अंकित कुमार सिंह, एसपी शैलेंद्र इंदौलिया, एएसपी के.सी.यादव, एएसपी महिला प्रकोष्ठ किशोर सिंह बुटोलिया एवं जिला प्रमुख प्रतिनिधि रक्खी लाल बैरवा मौके पर पहुंचे और समझाइश की। जिसके बाद परिजन पोस्टमार्टम पर सहमत हुए। लगभग 7 घंटे की समझाईश के बाद परिजन पोस्टमार्टम कराने के लिए राजी हुए और पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सुपुर्द कर दिया गया। पुलिस के साथ शव को भावली गांव भेजा गया। जहां पर परिजन एवं ग्रामीणों ने विवादित जमीन में अंत्येष्टि करने का निर्णय लिया। पुलिस ने विवादित जमीन में अंत्येष्टि करने से मना कर दिया और एक बार फिर ग्रामीण विवादित जमीन में अंत्येष्टि किए जाने की मांग को लेकर अड़ गए। मौके पर मौजूद अधिकारियों ने समझाईश के बाद देर शाम 7 बजे शव की अंत्येष्टि हो सकी।इधर बसपा के प्रदेशाध्यक्ष भगवानदास बाबा, जिलाध्यक्ष जमना लाल ने एएसपी के.सी.यादव व किशोर सिंह बुटोलिया से मुलाकात कर परिजनों को न्याय दिलाने की बात कही और परिजनों को ढांढस बंधाया। भूमि विवाद का वर्षों से विवाद चल रहा था। इसमें दोनों परिवारों ने कुल 5 मामले दर्ज कराए थे। जिनकी पुलिस जांच करवा रही है। वृद्ध की हत्या के मामले में पुलिस ने कुछ लोगों को राउंड अप किया है और उनसे पूछताछ की जा रही है। - शैलेन्द्र सिंह इंदौलिया, पुलिस अधीक्षक करौली

खबरें और भी हैं...