जलदाय विभाग की पेयजल टंकियां 2 साल से गंदी:लोग गंदा पानी पीने को मजबूर, अफसर नहीं दे रहे ध्यान

करौलीएक महीने पहले

एक ओर जलदाय विभाग आमजन को स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराने के दावे करता है वहीं दूसरी तरफ शहर में पेयजल आपूर्ति करने वाली टंकियों की सफाई एक साल बाद भी नहीं हुई है। ऐसे में शहर के कई इलाकों में बदबूदार पानी की सप्लाई हो रही है। इस मामले में शहर के लोग कई बार जलदाय अफसरों से शिकायतें कर चुके हैं लेकिन अभी तक इस समस्या का समाधान नहीं हुआ है।

शहर में 9 टंकिया, सबके हाल एक जैसे
शहर में पेयजल सप्लाई करने के लिए जलदाय विभाग की 9 टंकिया हैं। इनमें से किसी टंकी की सफाई 8 महीने पहले तो किसी टंकी की सफाई एक साल पहले या दो साल पहले हुई है। जलदाय अफसरों और कर्मचारियों की इस लापरवाही का नतीजा शहर की जनता को उठाना पड़ रहा है। शहर के लोग इस लापरवाही के चलते गंदा पानी पीने के लिए मजबूर हैं।

जलदाय विभाग की इस टंकी की सफाई 25 जुलाई 2018 को हुई है। यह बड़ी लापरवाही है।
जलदाय विभाग की इस टंकी की सफाई 25 जुलाई 2018 को हुई है। यह बड़ी लापरवाही है।

भास्कर की टीम ने लिया जायजा
भास्कर की टीम ने जब जलदाय विभाग की इन पेयजल टंकियों का जायजा लिया तो अफसरों और कर्मचारियों की लापरवाही साफ दिखाई दी। जलदाय विभाग के परिसर स्थित पेयजल टंकी की सफाई 24 अगस्त 2021 को की गई थी। इसके अलावा होली खिड़कियां बाहर स्थित टंकी की सफाई 10 अक्टूबर 2021, गुलाब बाग स्थित ओवरहेड टंकी और सीडब्ल्यूआर की सफाई 18 मार्च 2020 को नगर परिषद स्थित टंकी की सफाई 18 मार्च 2020 को की गई है।

लोग परेशान, सुनने वाला कोई नहीं
शहर के बड़ी हटरिया, हरी सिंह पीटीआई की गली, तांबे की टोरी सहित कई जगहों पर गंदे पानी की शिकायतें लोगों ने की है। लोगों का कहना कि इस मामले में कई बार जलदाय अफसरों को ऑफिस जाकर और पत्र लिखकर हालात सुधारने की मांग की लेकिन आज तक कोई हल नहीं निकला

जलदाय विभाग की इस टंकी की सफाई 18 मार्च 2020 को की गई थी। इसके बाद से आज तक इस टंकी की सफाई नहीं हुई।
जलदाय विभाग की इस टंकी की सफाई 18 मार्च 2020 को की गई थी। इसके बाद से आज तक इस टंकी की सफाई नहीं हुई।

जलदाय अफसरों का ये जवाब
जलदाय विभाग के अधिशाषी अभियंता राजेश कुमार मीणा का कहना है कि शहर की पेयजल आपूर्ति पिछले महीने ही उनके विभाग ने नगर परिषद से टेकओवर की है। पहले शहर में पेयजल आपूर्ति की व्यवस्था नगर परिषद की ओर से की जा रही थी। टंकियों की सफाई का मामला उनके ध्यान में आया है। सफाई के लिए टेंडर प्रक्रिया की जा रही है, जल्द ही सफाई पूरी की जाएगी।

गंदे पानी से बीमारियों का डर
करौली जिला अस्पताल के वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. शैलेंद्र गुप्ता का कहना है कि गंदे पानी पीने से पेचिस, पेट-दर्द, उल्टी-दस्त जैसी बीमारियां हो सकती है। ऐसे में लोगों को बीमारियों से बचने के लिए हमेशा स्वच्छ पेयजल पीना चाहिए।