हत्या:अपहृत बालक का पांचना बांध के पास झाड़ियों में मिला शव, दंपती हिरासत में

करौली6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
करौली| अस्पताल में परिजनों से समझाइश करते पुलिस व प्रशासन के अधिकारी। - Dainik Bhaskar
करौली| अस्पताल में परिजनों से समझाइश करते पुलिस व प्रशासन के अधिकारी।
  • अस्पताल में 8 घंटे तक परिजनों का धरना, पुलिस हत्या के कारणों का नहीं लगा सकी पता

जिला मुख्यालय के गणेश गेट हरिजन बस्ती से शनिवार देर शाम को अपहृत हुए बालक का शव पुलिस को हिरासत में लिए गए दंपती की निशानदेही पर पांचना के पास झाडि़यों में मिला है लेकिन रविवार को लगभग 8 घंटे तक अपनी मांगों को लेकर शव नहीं लेने पर अड़े परिजनों, समाज के लोगों तथा भाजपा पदाधिकारियों से समझाइश में व्यस्त रही पुलिस हिरासत में लिए संदिग्ध दंपती से हत्या के कारणों का पता नहीं लगा सकी है। हालांकि कोतवाल उदयभान ने मामले की जांच के लिए एक स्पेशल टीम का गठन किया है। हरिजन बस्ती गणेश गेट निवासी पप्पू के 10 वर्षीय पुत्र गोलू शनिवार शाम 6 बजे के लगभग गणेश गेट के पास खेल रहा था।

इस दौरान एक बाइक सवार महिला और पुरुष बालक का अपहरण कर हिंडौन रोड की तरफ ले गए। रास्ते में पीड़ित के जानकार विष्णु को बालक उनकी बाइक पर दिखा। आरोपी बालक से मारपीट कर रहे थे। इसको लेकर विष्णु ने आरोपियों को टोका तो चाकू से डरा धमका कर भगा दिया। इसके बाद उसने परिजनों को बालक के अपहरण की सूचना दी। आरोपियों को रिलांयस पेट्रोल पंप के पास से हिरासत में ले लिया और पूछताछ में बालक किसी अन्य के सुपुर्द करने की बात कही। पुलिस लगातार पूछताछ करती रही लेकिन आरोपी गुमराह करते रहे। देर रात कड़ाई से पूछताछ में आरोपियों ने बालक की हत्या कर शव अंजनी माता मंदिर की पहाडी़ के नीचे पांचना पुल के पास डालने की बात स्वीकार की। इबालक के परिजनों और क्षेत्र के लोगों में आक्रोशित हो गए और रविवार सुबह पोस्टमार्टम के बाद अस्पताल परिसर में धरने पर बैठ गए। कोतवाली थानाधिकारी उदयभान सिंह, करौली सदर थानाधिकारी कृपाल सिंह, महिला थानाधिकारी छवि फौजदार, लांगरा थानाधिकारी मुकेश सिंह व मामचारी थानाधिकारी ओमेन्द्र सिंह के नेतृत्व में पुलिस जाप्ता तैनात किया।

मृतक बालक के घर करौली में रुके थे दंपती
पुलिस द्वारा हिरासत में लिए गए दंपती को मृतक बालक के परिजन भली-भांति जानते थे और वह उनके घर पूर्व में लगभग 5 दिन रुक कर गए थे। शनिवार को भी वह उनके घर पर ही थे। परिजनों ने बताया कि सोनू उर्फ हरिओम निवासी गंगापुर सिटी उनके घर पर रह रहे थे और उसी व्यक्ति और उसके साथियों ने ही उसकी हत्या की है। एक और जहां पुलिस हिरासत में लिए गए आरोपियों को पीड़ित पक्ष का रिश्तेदार बता रही है तो वहीं पीड़ित पक्ष आरोपियों से केवल समाज के नाते उन्हें घर में जगह देने की बात कह रहे हैं।
ये रखी मांगें: बृजलाल डिकोलिया ने बताया की 5 लाख की आर्थिक सहायता, प्रधानमंत्री आवास, निशुल्क पट्टा, शहरी रोजगार गारंटी में नौकरी, शेष आरोपियों की पहचान कर सात दिवस में गिरफ्तारी का भी आश्वासन दिया है। पुलिस ने मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों के सुपुर्द कर दिया। परिजन मृतक का शव लेकर घर के लिए रवाना हो गए।

खबरें और भी हैं...