पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मित्रता का महत्व:भागवत कथा में बताया सच्ची मित्रता का महत्व

अंता14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कस्बे के समीपवर्ती रातड़िया स्थित मुरलीधर महाराज मंदिर पर चल रही संगीतमय श्रीमद्भागवत कथा में सोमवार को कथा वाचक आचार्य बुद्धिप्रकाश गौत्तम ने कई प्रसंग सुनाए। उन्होंने कहा कि संसार में कृष्ण-सुदामा जैसी मित्रता होनी चाहिए। मित्रता में न कोई छोटा होता है न कोई बड़ा। इस अवसर पर रामस्वरूप, भवानीशंकर, सत्यनारायण, बृजराज, कुंजबिहारी, नरेंद्र, छोटेलाल, रामेश्वर, कमलेश, प्रेमचंद मालव सहित कई श्रद्धालुओं ने महाआरती कर कथा का समापन किया।

खबरें और भी हैं...