पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पौधरोपण:48 बीघा चारागाह भूमि पर 3200 पौधों से बदली तस्वीर

अटरू13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
अटरू. सहरोद में मनरेगा के तहत हुए कार्याें का निरीक्षण करते जिला परिषद सीईओ बैरवा। - Dainik Bhaskar
अटरू. सहरोद में मनरेगा के तहत हुए कार्याें का निरीक्षण करते जिला परिषद सीईओ बैरवा।
  • सहरोद पंचायत में मनरेगा में किया था पौधरोपण, जुलाई में 4 हजार पौधे लगाने का लक्ष्य

ग्राम पंचायत सहरोद में हरियाली बढ़ाने के लिए चारागाह की सूरत बदल दी है। यहां पर करीब 48 बीघा में 3200 पौधे लगाने से क्षेत्र हराभरा दिखने लगा है।सीईओ जिला परिषद बृजमोहन बैरवा ने रविवार को मनरेगा के तहत हुए कार्याें का निरीक्षण किया। चारागाह के विकास कार्याें से पंचफल उद्यान का स्वरूप का अवलोकन किया। सीईओ बैरवा को निरीक्षण के दौरान अधिकारियों ने बताया कि ग्राम पंचायत सहरोद में मनरेगा के तहत ग्राम नरसिंहपुरा में लगभग 48 बीघा भूमि पर पौधरोपण किया गया था। वर्तमान मंे इस पंचफल उद्यान में लगभग 3200 पौधे लगे हुए हैं।

इनमें आंवले के 500, अमरूद के 400, नारंगी के 300, अनार के 48, बेर के 48, आम के 24 ,कटहल के 24, पपीता के 800, नीबू के 420, जामुन के 24 तथा 1200 छायादार पौधे हैं। साथ ही नीम, शीशम, गुलमोहर, पीपल, बड़ और विल्वपत्र के पौधे भी हैं। इसी स्थान पर एक फार्म पौंड भी बनाया जा रहा है, जिससे पंचफल उद्यान को सिंचाई के पर्याप्त जल उपलब्ध रहेगा। इस वर्ष जुलाई में 4 हजार पौधे लगाने का लक्ष्य रखा गया है। इसके लिए तारबंदी का कार्य करवाया जा चुका है। सीईओ बैरवा ने मनरेगा के तहत गड्ढे खुदवाने के कार्य के लिए निर्देश दिए। सहरोद के तालाब को मॉडल तालाब के रूप में विकसित किया जा रहा है।

यहां महिला व पुरुषों के लिए अलग-अलग घाट, तालाब की पिचिंग तथा तालाब की पाल पर उद्यान विकसित किया जाएगा। इस तालाब की पाल पर घूमने के लिए ट्रैक भी विकसित करने की योजना है। सीईओ बृजमोहन बैरवा ने बताया कि जिले में मनरेगा योजना के माध्यम से कई चारागाह विकसित करने की योजना साकार रूप ले रही है। मनरेगा योजना के तहत चारागाह विकास के तहत पौधारोपण के कार्य प्रगति पर है। निरीक्षण के दौरान ग्राम पंचायत सहरोद के सरपंच गिरिराज नागर, मनरेगा सहायक अभियंता मयंक शर्मा साथ में मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...