कोरोना की मार / जिलेभर में 12 हजार 429 मरीजों को इसके माध्यम से सेवा प्रदान की गई

12 thousand 429 patients were served through the district.
X
12 thousand 429 patients were served through the district.

  • शाहाबाद और धार्मिक नगरी सीताबाड़ी सहित क्षेत्र के सैकड़ाें मंदिराें में पसरा है सन्नाटा, मंगल कार्यों पर भी लॉकडाउन

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

राजपुर. कोरोना महामारी के चलते जारी लॉकडाउन को 51 दिन से ज्यादा समय हो गया है। इसके चलते छोटे से लेकर बड़े मंदिरों में पूजा करने वाले पुजारियों और उनके परिवारों के सामने संकट खड़ा हो गया है। क्योंकि उनका सब कुछ दान-दक्षिणा से ही चल रहा था। कोरोना महामारी ने मंदिरों के पट भी बंद करवा दिए हैं। ऐतिहासिक नगरी शाहबाद और धार्मिक नगरी सीताबाड़ी समेत ग्रामीण क्षेत्रों में छोटे-बड़े मिलाकर सैंकड़ों मंदिराें में रोज बड़ी संख्या में श्रद्धालु आकर दान-दक्षिणा और चढ़ावा चढ़ाते थे। अब इन मंदिरों में सन्नाटा पसरा हुआ है। 
मांगलिक कार्य भी बंद, पुजारियों को घर का खर्च चलाना हो रहा मुश्किल
कोटरागढ़ मंदिर के पुजारी संतोष वैष्णव का कहना है कि बड़े मंदिरों को देवस्थान विभाग ने अधिग्रहण कर रखा है, जिनके पुजारियों को तो देवस्थान विभाग वेतन दे रहा है, लेकिन छोटे मंदिरों में पुजारियों को दान-दक्षिणा पर ही निर्भर रहना पड़ता है, जो अब नहीं मिल पा रही है। कस्बे के विनय भार्गव पुजारी, मुड़ियर के सचिन भार्गव पुजारी ने बताया कि कोरोना महामारी ने भगवान के दरबार के भी पट बंद करवा दिए हैं।

ऐसे में जो मंदिरों में चढ़ावा आता था वह भी बंद हो गया। पंडित ओमप्रकाश शर्मा, जगदीश भार्गव ने बताया कि शादी विवाह, भूमि पूजन और गृह प्रवेश जैसे मंगलकार्य भी नहीं हो रहे हैं। ऐसे में पंडितों को मिलने वाली दान-दक्षिणा भी बंद हो गई हैं।
शादी 5 दिन की जगह एक घंटे में सिमट गई
लॉकडाउन के चलते शादियों का सबसे बड़ा त्योहार आखातीज निकला है। उसमें रिकॉर्ड तोड़ शादियां होती थी। जिनमें लंबे समय तक अलग-अलग कार्यक्रम आयोजित किए जाते थे, जिसमें पंडितों की भागीदारी हर रस्म पर होती थी। इसमें मिलने वाले चढ़ावे से ही वह अपना साल भर का गुजारा करते थे। लॉकडाउन में ऐसे आयोजन भी नहीं हुए। वहीं अधिकांश विवाह समारोह टाल दिए गए और जो कुछ हुए भी वह भी 51 दिन के समारोह की जगह एक घंटे में सिमट कर पूरे हो गए। साथ ही आगे भी बड़े आयोजन बंद ही रहेंगे।
पुजारी बोले: सरकार पहल कर आर्थिक मदद करे
सर्व ब्राह्मण समाज के लोगो का कहना है कि पुजारी समाज पर भी आर्थिक संकट गहरा गया है। ऐसे में सरकार को पहल कर आगे आना चाहिए और इन लोगों तक आर्थिक सहायता और राशि पहुंचानी चाहिए। शर्मा ने कहा कि ब्राह्मण, पुजारी समाज के लोग भी इसके लिए प्रयास कर रहे हैं और पुजारियों की मदद देने की सरकार कोशिश करे। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना