• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • Baran
  • Band baaja baraat...marriage Season Begins, A Thousand Couples Tied The Knot On The Very First Day, Happiness In The Market With A Business Of 100 Crores

देवोत्थान एकादशी:बैंड-बाजा-बारात...वैवाहिक सीजन शुरू, पहले ही दिन परिणय सूत्र में बंधे एक हजार जोड़े, 100 करोड़ के कारोबार से बाजार में खुशियां

बारां2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बारां. देवोत्थान एकादशी पर शहर में वैवाहिक आयोजनों की भी धूम रही। - Dainik Bhaskar
बारां. देवोत्थान एकादशी पर शहर में वैवाहिक आयोजनों की भी धूम रही।
  • कोरोना काल की डेढ़ साल की पाबंदियां हटी, अब डेढ़ महीने में 7 शुभ मूहूर्त, जिलेभर में 5 हजार से ज्यादा विवाह होंगे

जिले में देवोत्थान एकादशी रविवार से वैवाहिक कार्यक्रमों का शुभारंभ हो गया है। कोरोना काल में डेढ़ साल की रोक के बाद लोग बैंड बाजार, बारात के साथ सभी नाते-रिश्तेदाराें को बुलाकर वैवाहिक कार्यक्रम किए हैं। रविवार को एक ही दिन में जिलेभर में एक हजार से अधिक जोड़े परिणय सूत्र में बंधे हैं। वहीं नवंबर-दिसबंर में सात मूहूर्त में पांच हजार से अधिक विवाह होंगे। ऐसे में करीब 100 करोड़ के कारोबार से बाजार मेंे कारोबारी रौनक लौटने से व्यापारी खुश हैं। देव प्रबोधिनी एकादशी रविवार को मनाई गई। शुभ व मांगलिक काम प्रारंभ गए। डेढ़ साल बाद कोरोना पाबंदियां हटने से बाजार में कारोबारी रौनक है।

नवंबर के 16 दिनों में 13 दिन मांगलिक कार्य के मुहूर्त नवंबर व दिसंबर में कई मांगलिक कामों के मुहूर्त होंगे। मांगलिक कार्यों में यज्ञ, प्रतिष्ठा, विवाह, गृह प्रवेश, गृह आरंभ, उपनयन संस्कार होंगे। नवंबर के 16 दिनों में करीब 13 दिन मांगलिक कार्य होंगे। वहीं दिसंबर में 14 दिसंबर से पहले तक 7 दिन मांगलिक कार्य होंगे। जिलेभर में रविवार को एक हजार से अधिक जोड़े परिणय सूत्र में बंधे। बैंड बाजा बारात, सामूहिक भोज और सामूहिक नृत्य में लोगों का उल्लास देखते ही बना।

पाबंदी हटने से बढ़ी खरीदारी, शादी से जुड़े हर बाजार में रौनक व्यापार महासंघ अध्यक्ष ललित मोहन खंडेलवाल ने बताया कि कोरोना के चलते लगी पाबंदिया हटने से हलवाई, मैरिज हॉल संचालक, बैंडबाजा, किराना, कपड़ा, सर्राफा, इलेक्ट्रानिक्स, बर्तन से लेकर हर बाजार में खरीदारी का जोर है। इससे बाजार में खासी चहल-पहल बढ़ गई है। नवंबर और दिसंबर में पांच हजार से अधिक वैवाहिक कार्यक्रम होंगे। बाजार में दो महीने के सीजन में 100 करोड़ से अधिक खरीद-फरोख्त की उम्मीद से व्यापारी उत्साहित हैं।

टैंट, बैंडबाजा, मेरिज गार्डन व्यवसाइयों को मिली राहत कोरोनाकाल में पाबंदियों ने शादी-विवाह सहित अन्य आयोजनों को सीमित कर दिया था। इसका खामिायाजा वैवाहिक आयोजन से जुड़े कारोबार पर पड़ा। डेढ़ साल से आर्थिक मंदी की मार झेलने के बाद अब पाबंदियां हटने से बाजार में खरीदारी परवान पर है। जिले में मैरिज गार्डनों में विवाह रहे हैं। कपड़ों से लेकर ज्वैलरी समेत इलेक्ट्रॉनिक्स की दुकानों पर खरीद-फरोख्त हो रही है। वैवाहिक आयोजन कारोबार से जुडे़ टेंट व्यवसाई, कैटर्स, बैंड बाजा, हलवाई, मैरिज गार्डन संचालक, प्रिंटिंग व्यवसायियों में भी डेढ़ साल बाद अच्छे व्यवसाय को लेकर खासा उत्साह है।

खबरें और भी हैं...